वासना की अग्नि -2

जब उनकी हथेली चूचियों पर से गुज़रती तो वे दबती नहीं बल्कि स्वाभिमान में उठी रहतीं। मास्टरजी को स्वर्ग का अनुभव हो रहा था। इसी दौरान उन्हें एक और अनुभव हुआ जिसने उन्हें चौंका दिया, उनका लिंग अपनी मायूसी त्याग कर फिर से अंगडाई लेने की चेष्टा कर रहा था। मास्टरजी को अत्यंत अचरज हुआ। उन्होंने सोचा था कि दो बार के विस्फोट के बाद कम से कम १२ घंटे तक तो वह शांत रहेगा। पर आज कुछ और ही बात थी। उन्हें अपनी मर्दानगी पर गरूर होने लगा। चिंता इसलिए नहीं हुई क्योंकि प्रगति का सिर ढका हुआ था और वह कुछ नहीं देख सकती थी। मास्टरजी ने अपने लिंग को निकर में ही ठीक से व्यवस्थित किया जिस से उसके विकास में कोई बाधा न आये।

जब तक प्रगति की आँखें बंद थीं उन्हें अपने लंड की उजड्ड हरकत से कोई आपत्ति नहीं थी। वे एक बार फिर प्रगति के पेट के ऊपर दोनों तरफ अपनी टांगें करके बैठ गए और उसकी नाभि से लेकर कन्धों तक मसाज करने लगे। इसमें उन्हें बहुत आनंद आ रहा था, खासकर जब उनके हाथ बोबों के ऊपर से जाते थे। कुछ देर बाद मास्टरजी ने अपने आप को खिसका कर नीचे की ओर कर लिया और उसके घुटनों के करीब आसन जमा लिया। अपना वज़न उन्होंने अपनी टांगों पर ही रखा जिससे प्रगति को थकान या तकलीफ़ न हो।
मास्टरजी के घर से चोरों की तरह निकल कर घर जाते समय प्रगति का दिल जोरों से धड़क रहा था। उसके मन में ग्लानि-भाव था। साथ ही साथ उसे ऐसा लग रहा था मानो उसने कोई चीज़ हासिल कर ली हो। मास्टरजी को वशीभूत करने का उसे गर्व सा हो रहा था। अपने जिस्म के कई अंगों का अहसास उसे नए सिरे से होने लगा था। उसे नहीं पता था कि उसका शरीर उसे इतना सुख दे सकता है। पर मन में चोर होने के कारण वह वह भयभीत सी घर की ओर जल्दी जल्दी कदमों से जा रही थी।

जैसे किसी भूखे भेड़िये के मुँह से शिकार चुरा लिया हो, मास्टरजी गुस्से और निराशा से भरे हुए दरवाज़े की तरफ बढ़े। उन्होंने सोच लिया था जो भी होगा, उसकी ख़ैर नहीं है।

यह कहानी भी पड़े  जानदार लंड शानदार चुदाई

“अरे भई, भरी दोपहरी में कौन आया है?” मास्टरजी चिल्लाये।

जवाब का इंतज़ार किये बिना उन्होंने दरवाजा खोल दिया और अनचाहे महमान का अनादर सहित स्वागत करने को तैयार हो गए। पर दरवाज़े पर प्रगति की छोटी बहन अंजलि को देखते ही उनका गुस्सा और चिड़चिड़ापन काफूर हो गया। अंजलि हांफ रही थी।

“अरे बेटा, तुम? कैसे आना हुआ?”

“अन्दर आओ। सब ठीक तो है ना?” मास्टरजी चिंतित हुए। उन्हें डर था कहीं उनका भांडा तो नहीं फूट गया….
अंजलि ने हाँफते हाँफते कहा,”मास्टरजी, पिताजी अचानक घर जल्दी आ गए। दीदी को घर में ना पा कर गुस्सा हो रहे हैं।”

मास्टरजी,”फिर क्या हुआ?”

अंजलि,”मैंने कह दिया कि सहेली के साथ पढ़ने गई है, आती ही होगी।”

मास्टरजी,”फिर?”

अंजलि,”पिताजी ने पूछा कौन सहेली? तो मैंने कहा मास्टरजी ने कमज़ोर बच्चों के लिए ट्यूशन लगाई है वहीं गई है अपनी सहेलियों के साथ।”

अंजलि,”मैंने सोचा आपको बता दूं, हो सकता है पिताजी यहाँ पता करने आ जाएँ।”

मास्टरजी,”शाबाश बेटा, बहुत अच्छा किया !! तुम तो बहुत समझदार निकलीं। आओ तुम्हें मिठाई खिलाते हैं।” यह कहते हुए मास्टरजी अंजलि का हाथ खींच कर अन्दर ले जाने लगे।

अंजलि,”नहीं मास्टरजी, मिठाई अभी नहीं। मैं जल्दी में हूँ। दीदी कहाँ है?” अंजलि की नज़रें प्रगति को घर में ढूंढ रही थीं।

मास्टरजी,”वह तो अभी अभी घर गई है।”

अंजलि,” कब? मैंने तो रास्ते में नहीं देखा…”

मास्टरजी,”हो सकता है उसने कोई और रास्ता लिया हो। जाने दो। तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो।”

मास्टरजी ने अंजलि से पूछा,”तुम चाहती हो ना कि दीदी के अच्छे नंबर आयें? हैं ना ?”

अंजलि,”हाँ मास्टरजी। क्यों? ”

मास्टरजी,”मैं तुम्हारी दीदी के लिए अलग से क्लास ले रहा हूँ। वह बहुत होनहार है। क्लास में फर्स्ट आएगी।”

अंजलि,”अच्छा?”

मास्टरजी,”हाँ। पर बाकी लोगों को पता चलेगा तो मुश्किल होगी, है ना ?”

अंजलि ने सिर हिला कर हामी भरी।

मास्टरजी,”तुम तो बहुत समझदार और प्यारी लड़की हो। घर में किसी को नहीं बताना कि दीदी यहाँ पर पढ़ने आती है। माँ और पिताजी को भी नहीं…. ठीक है?”

यह कहानी भी पड़े  साले की बीवी को जमकर पेला

अंजलि ने फिर सिर हिला दिया…..

मास्टरजी,”और हाँ, प्रगति को बोलना कल 11 बजे ज़रूर आ जाये। ठीक है? भूलोगी तो नहीं, ना ?”

अंजलि,”ठीक है। बता दूँगी…। ”

मास्टरजी,”मेरी अच्छी बच्ची !! बाद में मैं तुम्हें भी अलग से पढ़ाया करूंगा।” यह कहते कहते मास्टरजी अपनी किस्मत पर रश्क कर रहे थे। प्रगति के बाद उन्हें अंजलि के साथ खिलवाड़ का मौक़ा मिलेगा, यह सोच कर उनका मन प्रफुल्लित हो रहा था।

मास्टरजी,”तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो !”

“बाद में खाऊँगी” बोलते हुए वह दौड़ गई।

अगले दिन मास्टरजी 11 बजे का बेचैनी से इंतज़ार रहे थे। सुबह से ही उनका धैर्य कम हो रहा था। रह रह कर वे घड़ी की सूइयां देख रहे थे और उनकी धीमी चाल मास्टरजी को विचलित कर रही थी। स्कूल की छुट्टी थी इसीलिये उन्होंने अंजलि को ख़ास तौर से बोला था कि प्रगति को आने के लिए बता दे। कहीं वह छुट्टी समझ कर छुट्टी न कर दे।
वे जानते थे 10 से 4 बजे के बीच उसके माँ बाप दोनों ही काम पर होते हैं। और वे इस समय का पूरा पूरा लाभ उठाना चाहते थे। उन्होंने हल्का नाश्ता किया और पेट को हल्का ही रखा। इस बार उन्होंने तेल मालिश करने की और बाद में रति-क्रिया करने की ठीक से तैयारी कर ली। कमरे को साफ़ करके खूब सारी अगरबत्तियां जला दीं, ज़मीन पर गद्दा लगा कर एक साफ़ चादर उस पर बिछा दी। तेल को हल्का सा गर्म कर के दो कटोरियों में रख लिया। एक कटोरी सिरहाने की तरफ और एक पायदान की तरफ रख ली जिससे उसे सरकाना ना पड़े। साढ़े १० बजे वह नहा धो कर ताज़ा हो गए और साफ़ कुर्ता और लुंगी पहन ली। उन्होंने जान बूझ कर चड्डी नहीं पहनी।

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


opna xxx anti hindi बुआ का चोदा पापा के साथ मिलकरट्रेन के सफर मे चुदाईकमला मेरी बहन incestबुरका मेँ सैक्सी विडियो हिन्दी मे चूत देतीnajayaz rishta incest maa beta hindi kahaniWWW XXX शकसी कहनी चुदाई औरतलुधियानाकी देशी चूत बिडियोसहेली ने पति से चुदवायादीदी के हाथ में मेरा वीर्यआंटी की चूतचूत का मज़ा विधवा ने दियाBhabhi aur unki do saheliyaan sex storysexy story fufa ji ka land chusaचूतHindi sexy stori ma Bhan bhanji brsat ma srdi meऋतु पर खुला चुदाईदीदी के हाथ में मेरा वीर्यtau ki ladki ko us k sasural me sex storybiwi chudi builder se in hindi sex kahaniyaहिंदी सेक्स स्टोरीज सबने मिलकर छोड़ाRitika sex but and chut ki kahaniRitika sex but and chut ki kahaniantrvaasna bhabhi ko कपडे बदलते देखाबहन की चुदाई माँ के साथ चूत antrvasnaBe libas chudai kahaniHindi sex kahani risto me Budhe Ne Khet Me chodaअंतरवासना.काम आंटी की चुदाईबाकी लड़कियों की लैंड चूसाई और मुंह में पानी निकालनाpiNkee jee kee biloo filamसगीता मनोज की चोदाईसेक्स माँ से ऑनलाइन चीटिंग चुदाई सेक्स कहनीरिस्तों में मामी-भांजा चुदाईविधवा भाभी की रातpati ke samne sex stiriesSuman ki chudi xxx hindi khaniचूत फटने लगीअन्तर्वासना हिंदी सेक्सी स्टोरीभाई मुझे अपनी रखेल बना लोMuslim sakeera bhabhi ko khat ma choda hindi storyChudai karte karte duwa nikl geadoctor ke pas gaya की चुदाई कहानियाँ .comGermard ki bahome sex story Hindi ten thái lan porn ra nhiều nướcbaba ne kuwari sexkhaniyasax kahani hindi 2018 GndiGaliचुतभाभी गयी मूतने चुपके क्सक्सक्स वीडियोsex story in hindi landlady aunty aur unki saheli ko chodaट्रेन मे बीबी की सेक्स चूदाई काहाणी सास की चूतताई की सेक्स कहानीचची ने लुंड देख लियादीदी की सिष्य कहलनि हिंदीpark ma cuht ma boht dalana sexnaye shohar se chudiअन्तर्वासना काजलstarnager se maa ne pyas bhujwai sex storyरेलगाडी मेँ माँ चूदाई दिन मेँdidi ke kankh par baalछोटी बहन को चोदासलवार का नाड़ा खींच लिया सेक्स कहानियांHindi sex storiy bua ki beti se shadibhai behan ke chodneki kahaniya avaje nikalke chndnameri mangalsutra apne land me lapet kar choda adio sex storimami ne dilwai kachchi kali hindi sex kahaniyanकिराएदार से पोर्न हिन्दी स्टोरीमेरी नँगी लंड की मालिषराज shrma सेक्स .comमौसी को चोदने की इच्छाHindi bhabhi ko pehli baar gadhe ke land se sex storyma ki malish & chudhi ki khani hindi memaa ne apne bete ka land khda dekh ke muth mardiraat ko sath main sona pda kamuak antarvasnaसुमन ने लंड चूसाअन्तर्वासनाचुदासे लंडपापा का तगड़ा लोडा sax storiesमम्मी को अंकल चोदने वाले थेMoapsi ki chudae xxx porn vmeri.rani.choot.me.land.lo.desiGundo se lagatar chudai ki kahaniमेरी बीवी को चोद दिया मादरचोद ने मोटे लंड से