वासना की अग्नि -2

जब उनकी हथेली चूचियों पर से गुज़रती तो वे दबती नहीं बल्कि स्वाभिमान में उठी रहतीं। मास्टरजी को स्वर्ग का अनुभव हो रहा था। इसी दौरान उन्हें एक और अनुभव हुआ जिसने उन्हें चौंका दिया, उनका लिंग अपनी मायूसी त्याग कर फिर से अंगडाई लेने की चेष्टा कर रहा था। मास्टरजी को अत्यंत अचरज हुआ। उन्होंने सोचा था कि दो बार के विस्फोट के बाद कम से कम १२ घंटे तक तो वह शांत रहेगा। पर आज कुछ और ही बात थी। उन्हें अपनी मर्दानगी पर गरूर होने लगा। चिंता इसलिए नहीं हुई क्योंकि प्रगति का सिर ढका हुआ था और वह कुछ नहीं देख सकती थी। मास्टरजी ने अपने लिंग को निकर में ही ठीक से व्यवस्थित किया जिस से उसके विकास में कोई बाधा न आये।

जब तक प्रगति की आँखें बंद थीं उन्हें अपने लंड की उजड्ड हरकत से कोई आपत्ति नहीं थी। वे एक बार फिर प्रगति के पेट के ऊपर दोनों तरफ अपनी टांगें करके बैठ गए और उसकी नाभि से लेकर कन्धों तक मसाज करने लगे। इसमें उन्हें बहुत आनंद आ रहा था, खासकर जब उनके हाथ बोबों के ऊपर से जाते थे। कुछ देर बाद मास्टरजी ने अपने आप को खिसका कर नीचे की ओर कर लिया और उसके घुटनों के करीब आसन जमा लिया। अपना वज़न उन्होंने अपनी टांगों पर ही रखा जिससे प्रगति को थकान या तकलीफ़ न हो।
मास्टरजी के घर से चोरों की तरह निकल कर घर जाते समय प्रगति का दिल जोरों से धड़क रहा था। उसके मन में ग्लानि-भाव था। साथ ही साथ उसे ऐसा लग रहा था मानो उसने कोई चीज़ हासिल कर ली हो। मास्टरजी को वशीभूत करने का उसे गर्व सा हो रहा था। अपने जिस्म के कई अंगों का अहसास उसे नए सिरे से होने लगा था। उसे नहीं पता था कि उसका शरीर उसे इतना सुख दे सकता है। पर मन में चोर होने के कारण वह वह भयभीत सी घर की ओर जल्दी जल्दी कदमों से जा रही थी।

जैसे किसी भूखे भेड़िये के मुँह से शिकार चुरा लिया हो, मास्टरजी गुस्से और निराशा से भरे हुए दरवाज़े की तरफ बढ़े। उन्होंने सोच लिया था जो भी होगा, उसकी ख़ैर नहीं है।

यह कहानी भी पड़े  जानदार लंड शानदार चुदाई

“अरे भई, भरी दोपहरी में कौन आया है?” मास्टरजी चिल्लाये।

जवाब का इंतज़ार किये बिना उन्होंने दरवाजा खोल दिया और अनचाहे महमान का अनादर सहित स्वागत करने को तैयार हो गए। पर दरवाज़े पर प्रगति की छोटी बहन अंजलि को देखते ही उनका गुस्सा और चिड़चिड़ापन काफूर हो गया। अंजलि हांफ रही थी।

“अरे बेटा, तुम? कैसे आना हुआ?”

“अन्दर आओ। सब ठीक तो है ना?” मास्टरजी चिंतित हुए। उन्हें डर था कहीं उनका भांडा तो नहीं फूट गया….
अंजलि ने हाँफते हाँफते कहा,”मास्टरजी, पिताजी अचानक घर जल्दी आ गए। दीदी को घर में ना पा कर गुस्सा हो रहे हैं।”

मास्टरजी,”फिर क्या हुआ?”

अंजलि,”मैंने कह दिया कि सहेली के साथ पढ़ने गई है, आती ही होगी।”

मास्टरजी,”फिर?”

अंजलि,”पिताजी ने पूछा कौन सहेली? तो मैंने कहा मास्टरजी ने कमज़ोर बच्चों के लिए ट्यूशन लगाई है वहीं गई है अपनी सहेलियों के साथ।”

अंजलि,”मैंने सोचा आपको बता दूं, हो सकता है पिताजी यहाँ पता करने आ जाएँ।”

मास्टरजी,”शाबाश बेटा, बहुत अच्छा किया !! तुम तो बहुत समझदार निकलीं। आओ तुम्हें मिठाई खिलाते हैं।” यह कहते हुए मास्टरजी अंजलि का हाथ खींच कर अन्दर ले जाने लगे।

अंजलि,”नहीं मास्टरजी, मिठाई अभी नहीं। मैं जल्दी में हूँ। दीदी कहाँ है?” अंजलि की नज़रें प्रगति को घर में ढूंढ रही थीं।

मास्टरजी,”वह तो अभी अभी घर गई है।”

अंजलि,” कब? मैंने तो रास्ते में नहीं देखा…”

मास्टरजी,”हो सकता है उसने कोई और रास्ता लिया हो। जाने दो। तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो।”

मास्टरजी ने अंजलि से पूछा,”तुम चाहती हो ना कि दीदी के अच्छे नंबर आयें? हैं ना ?”

अंजलि,”हाँ मास्टरजी। क्यों? ”

मास्टरजी,”मैं तुम्हारी दीदी के लिए अलग से क्लास ले रहा हूँ। वह बहुत होनहार है। क्लास में फर्स्ट आएगी।”

अंजलि,”अच्छा?”

मास्टरजी,”हाँ। पर बाकी लोगों को पता चलेगा तो मुश्किल होगी, है ना ?”

अंजलि ने सिर हिला कर हामी भरी।

मास्टरजी,”तुम तो बहुत समझदार और प्यारी लड़की हो। घर में किसी को नहीं बताना कि दीदी यहाँ पर पढ़ने आती है। माँ और पिताजी को भी नहीं…. ठीक है?”

यह कहानी भी पड़े  साले की बीवी को जमकर पेला

अंजलि ने फिर सिर हिला दिया…..

मास्टरजी,”और हाँ, प्रगति को बोलना कल 11 बजे ज़रूर आ जाये। ठीक है? भूलोगी तो नहीं, ना ?”

अंजलि,”ठीक है। बता दूँगी…। ”

मास्टरजी,”मेरी अच्छी बच्ची !! बाद में मैं तुम्हें भी अलग से पढ़ाया करूंगा।” यह कहते कहते मास्टरजी अपनी किस्मत पर रश्क कर रहे थे। प्रगति के बाद उन्हें अंजलि के साथ खिलवाड़ का मौक़ा मिलेगा, यह सोच कर उनका मन प्रफुल्लित हो रहा था।

मास्टरजी,”तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो !”

“बाद में खाऊँगी” बोलते हुए वह दौड़ गई।

अगले दिन मास्टरजी 11 बजे का बेचैनी से इंतज़ार रहे थे। सुबह से ही उनका धैर्य कम हो रहा था। रह रह कर वे घड़ी की सूइयां देख रहे थे और उनकी धीमी चाल मास्टरजी को विचलित कर रही थी। स्कूल की छुट्टी थी इसीलिये उन्होंने अंजलि को ख़ास तौर से बोला था कि प्रगति को आने के लिए बता दे। कहीं वह छुट्टी समझ कर छुट्टी न कर दे।
वे जानते थे 10 से 4 बजे के बीच उसके माँ बाप दोनों ही काम पर होते हैं। और वे इस समय का पूरा पूरा लाभ उठाना चाहते थे। उन्होंने हल्का नाश्ता किया और पेट को हल्का ही रखा। इस बार उन्होंने तेल मालिश करने की और बाद में रति-क्रिया करने की ठीक से तैयारी कर ली। कमरे को साफ़ करके खूब सारी अगरबत्तियां जला दीं, ज़मीन पर गद्दा लगा कर एक साफ़ चादर उस पर बिछा दी। तेल को हल्का सा गर्म कर के दो कटोरियों में रख लिया। एक कटोरी सिरहाने की तरफ और एक पायदान की तरफ रख ली जिससे उसे सरकाना ना पड़े। साढ़े १० बजे वह नहा धो कर ताज़ा हो गए और साफ़ कुर्ता और लुंगी पहन ली। उन्होंने जान बूझ कर चड्डी नहीं पहनी।

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


विधवा मैडम को चोदारिता कि चुदाईदोग्गी सेक्सक्स videoभाभी ने मुंह पर मुठ्ठ माराpayal ki chudai samuhikhindisax कहानी buua kibetichoot me मक्खन डालनाpuaabe.phoh.lav.storekhet me kamli ki gand mari videoलड़की की चूतantarvasana ushakiनंगीजवानलडकिया अंग प्रदर्शन कर रही होBadi sali pregnant xxxहिंदी सेक्स स्टोरी नाभि के नीचे स्कर्टmummy bets hawas kankhसीमा भाभी की चूचि हिंदी सेक्सी कहानियाँkhet me nahate xxx khani hindi maa ki iska memaptram.dot.comमाँ की चुदाई नाहते समय सेक्सी स्टोरी हिंदीbaap beti sex storygundo ne hum sabko roti or lund khilaya xxx khaniटिचर बोली मुझे दो मोटे लँड से चोदोटेबल पर बहु की चुदाई की कहानीbuyprednisone.ru suhagratsangita tai ki chudai incest storiesneelu biwi ki chudai indian sex baxaar xxx kahanibewafa chachi ki kahaniअन्तर्वासना .माँ और फूफा जी हिंदी सेक्स स्टोरीबाई.की.चुदाईमौसी की चूतअंतरवासनामामी की चुत की फांकों के बीचchudasi auntiyan storyचूचे कि चूदाईबाती की चूत फट गईदेवार ने पुनाम भाभी की चुत मारअमी को ईद पर चोदाkarvachauth mein pyaar mila antarvasna kahaniचूत काखेल लड चुसाई वीडीयोaslam ka land chusa hindi sex storyबहन की चुदाई माँ के साथ चूत antrvasnaचुदयि।हिनदी।विडीयोbin mange chut mil gyiCha dượng đụ luôn con gái.mp4Antravasana malken ke aor bibi cudaiअकेले घर में पड़ोस की लड़की को बहाने Sex storykhet me nahate xxx khani hindi maa ki iska meMami ki nokri part 2 xxx suoriesmajor sahb deenu pani kitchenChut me daat katna pornमधुर कानी सेक्सी स्टोरी मधुर कहानीxxx चोदाईलड़की की चुदाईNadan,sex,storiमोम नीचे का होंठ चूसना ः हिंदी सेक्स स्टोरीपापा ने धीरे धीरे लंड घुसायाmama bhanji ke pyare anterwaanaनाभि se utejna sexhavili antarvasnaकोमल और बाप की चुदाईभाभी की चुदाई वीडियो साड़ी ब्लाउज मुझे bnyan pehene huy पेटीकोटxxxx.hindi.josh.me.choadanchoot pr land ragad diyaपरिवार में सामूहिक चुदायhindi kahani aunty ne dildo se mera gand maraबहन चॅदचुत चुदाई नँगीकहानीwalnisexxचुतचुदाई.गानाउसके नंगे स्तनों पे मंगलसूत्रsadi suds Badi Didi ko Gand Mar storyचची की पेटीकोट का नाड़ाBhanjidi ko land ka maja diya hindi sex story. ComHindi chudai baba guru mota lund jabardasti khun dard sex kahaniहम चुदाई कर रहे तभी मामी aa gaiKomal na apana bahi sa cudvaya xxx kahaniमेंरी माँ ने मुझसे जमकर चुदवायाtrean mom antarvasnaHindi sexy stori ma Bhan bhanji brsat ma srdi meBhavichutsexy bhabi ko bathroom me nangi panty utari khani माँ बेटे की चुदाई कहानियाँ दिखाएTenish bhol sex xxx v comxxx vidos mammi ammrikaDidi ke sath suhagrat manayaलडकी चुतअपने से आधी उम्र की से सेक्स स्टोरीजमैं दीवानी चुदाईचुदAndhera khade 2 lund liya chupchap incestAntarvasnasexKahaniya. ComMain meri maa aur karim hindi sex storyसाली को चुपके से बोबे देखे Xxx storyप्रगति दीदी की कहानियांChudai ke baad choot pics