वासना की अग्नि -2

जब उनकी हथेली चूचियों पर से गुज़रती तो वे दबती नहीं बल्कि स्वाभिमान में उठी रहतीं। मास्टरजी को स्वर्ग का अनुभव हो रहा था। इसी दौरान उन्हें एक और अनुभव हुआ जिसने उन्हें चौंका दिया, उनका लिंग अपनी मायूसी त्याग कर फिर से अंगडाई लेने की चेष्टा कर रहा था। मास्टरजी को अत्यंत अचरज हुआ। उन्होंने सोचा था कि दो बार के विस्फोट के बाद कम से कम १२ घंटे तक तो वह शांत रहेगा। पर आज कुछ और ही बात थी। उन्हें अपनी मर्दानगी पर गरूर होने लगा। चिंता इसलिए नहीं हुई क्योंकि प्रगति का सिर ढका हुआ था और वह कुछ नहीं देख सकती थी। मास्टरजी ने अपने लिंग को निकर में ही ठीक से व्यवस्थित किया जिस से उसके विकास में कोई बाधा न आये।

जब तक प्रगति की आँखें बंद थीं उन्हें अपने लंड की उजड्ड हरकत से कोई आपत्ति नहीं थी। वे एक बार फिर प्रगति के पेट के ऊपर दोनों तरफ अपनी टांगें करके बैठ गए और उसकी नाभि से लेकर कन्धों तक मसाज करने लगे। इसमें उन्हें बहुत आनंद आ रहा था, खासकर जब उनके हाथ बोबों के ऊपर से जाते थे। कुछ देर बाद मास्टरजी ने अपने आप को खिसका कर नीचे की ओर कर लिया और उसके घुटनों के करीब आसन जमा लिया। अपना वज़न उन्होंने अपनी टांगों पर ही रखा जिससे प्रगति को थकान या तकलीफ़ न हो।
मास्टरजी के घर से चोरों की तरह निकल कर घर जाते समय प्रगति का दिल जोरों से धड़क रहा था। उसके मन में ग्लानि-भाव था। साथ ही साथ उसे ऐसा लग रहा था मानो उसने कोई चीज़ हासिल कर ली हो। मास्टरजी को वशीभूत करने का उसे गर्व सा हो रहा था। अपने जिस्म के कई अंगों का अहसास उसे नए सिरे से होने लगा था। उसे नहीं पता था कि उसका शरीर उसे इतना सुख दे सकता है। पर मन में चोर होने के कारण वह वह भयभीत सी घर की ओर जल्दी जल्दी कदमों से जा रही थी।

जैसे किसी भूखे भेड़िये के मुँह से शिकार चुरा लिया हो, मास्टरजी गुस्से और निराशा से भरे हुए दरवाज़े की तरफ बढ़े। उन्होंने सोच लिया था जो भी होगा, उसकी ख़ैर नहीं है।

यह कहानी भी पड़े  जानदार लंड शानदार चुदाई

“अरे भई, भरी दोपहरी में कौन आया है?” मास्टरजी चिल्लाये।

जवाब का इंतज़ार किये बिना उन्होंने दरवाजा खोल दिया और अनचाहे महमान का अनादर सहित स्वागत करने को तैयार हो गए। पर दरवाज़े पर प्रगति की छोटी बहन अंजलि को देखते ही उनका गुस्सा और चिड़चिड़ापन काफूर हो गया। अंजलि हांफ रही थी।

“अरे बेटा, तुम? कैसे आना हुआ?”

“अन्दर आओ। सब ठीक तो है ना?” मास्टरजी चिंतित हुए। उन्हें डर था कहीं उनका भांडा तो नहीं फूट गया….
अंजलि ने हाँफते हाँफते कहा,”मास्टरजी, पिताजी अचानक घर जल्दी आ गए। दीदी को घर में ना पा कर गुस्सा हो रहे हैं।”

मास्टरजी,”फिर क्या हुआ?”

अंजलि,”मैंने कह दिया कि सहेली के साथ पढ़ने गई है, आती ही होगी।”

मास्टरजी,”फिर?”

अंजलि,”पिताजी ने पूछा कौन सहेली? तो मैंने कहा मास्टरजी ने कमज़ोर बच्चों के लिए ट्यूशन लगाई है वहीं गई है अपनी सहेलियों के साथ।”

अंजलि,”मैंने सोचा आपको बता दूं, हो सकता है पिताजी यहाँ पता करने आ जाएँ।”

मास्टरजी,”शाबाश बेटा, बहुत अच्छा किया !! तुम तो बहुत समझदार निकलीं। आओ तुम्हें मिठाई खिलाते हैं।” यह कहते हुए मास्टरजी अंजलि का हाथ खींच कर अन्दर ले जाने लगे।

अंजलि,”नहीं मास्टरजी, मिठाई अभी नहीं। मैं जल्दी में हूँ। दीदी कहाँ है?” अंजलि की नज़रें प्रगति को घर में ढूंढ रही थीं।

मास्टरजी,”वह तो अभी अभी घर गई है।”

अंजलि,” कब? मैंने तो रास्ते में नहीं देखा…”

मास्टरजी,”हो सकता है उसने कोई और रास्ता लिया हो। जाने दो। तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो।”

मास्टरजी ने अंजलि से पूछा,”तुम चाहती हो ना कि दीदी के अच्छे नंबर आयें? हैं ना ?”

अंजलि,”हाँ मास्टरजी। क्यों? ”

मास्टरजी,”मैं तुम्हारी दीदी के लिए अलग से क्लास ले रहा हूँ। वह बहुत होनहार है। क्लास में फर्स्ट आएगी।”

अंजलि,”अच्छा?”

मास्टरजी,”हाँ। पर बाकी लोगों को पता चलेगा तो मुश्किल होगी, है ना ?”

अंजलि ने सिर हिला कर हामी भरी।

मास्टरजी,”तुम तो बहुत समझदार और प्यारी लड़की हो। घर में किसी को नहीं बताना कि दीदी यहाँ पर पढ़ने आती है। माँ और पिताजी को भी नहीं…. ठीक है?”

यह कहानी भी पड़े  साले की बीवी को जमकर पेला

अंजलि ने फिर सिर हिला दिया…..

मास्टरजी,”और हाँ, प्रगति को बोलना कल 11 बजे ज़रूर आ जाये। ठीक है? भूलोगी तो नहीं, ना ?”

अंजलि,”ठीक है। बता दूँगी…। ”

मास्टरजी,”मेरी अच्छी बच्ची !! बाद में मैं तुम्हें भी अलग से पढ़ाया करूंगा।” यह कहते कहते मास्टरजी अपनी किस्मत पर रश्क कर रहे थे। प्रगति के बाद उन्हें अंजलि के साथ खिलवाड़ का मौक़ा मिलेगा, यह सोच कर उनका मन प्रफुल्लित हो रहा था।

मास्टरजी,”तुम जल्दी से एक लड्डू खा लो !”

“बाद में खाऊँगी” बोलते हुए वह दौड़ गई।

अगले दिन मास्टरजी 11 बजे का बेचैनी से इंतज़ार रहे थे। सुबह से ही उनका धैर्य कम हो रहा था। रह रह कर वे घड़ी की सूइयां देख रहे थे और उनकी धीमी चाल मास्टरजी को विचलित कर रही थी। स्कूल की छुट्टी थी इसीलिये उन्होंने अंजलि को ख़ास तौर से बोला था कि प्रगति को आने के लिए बता दे। कहीं वह छुट्टी समझ कर छुट्टी न कर दे।
वे जानते थे 10 से 4 बजे के बीच उसके माँ बाप दोनों ही काम पर होते हैं। और वे इस समय का पूरा पूरा लाभ उठाना चाहते थे। उन्होंने हल्का नाश्ता किया और पेट को हल्का ही रखा। इस बार उन्होंने तेल मालिश करने की और बाद में रति-क्रिया करने की ठीक से तैयारी कर ली। कमरे को साफ़ करके खूब सारी अगरबत्तियां जला दीं, ज़मीन पर गद्दा लगा कर एक साफ़ चादर उस पर बिछा दी। तेल को हल्का सा गर्म कर के दो कटोरियों में रख लिया। एक कटोरी सिरहाने की तरफ और एक पायदान की तरफ रख ली जिससे उसे सरकाना ना पड़े। साढ़े १० बजे वह नहा धो कर ताज़ा हो गए और साफ़ कुर्ता और लुंगी पहन ली। उन्होंने जान बूझ कर चड्डी नहीं पहनी।

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


Ras bhari gudaj gaandमामी की चुदाईPorn Babli kaki ghu hindi kahaniantarvasna momकमला की चुदासी अमर भैया सेChut me daat katna pornantarvasana ushakiरंडी ka cum nikal gayaसील पैक चूत की चुदाई स्टोरीमँगला बीबी की चुत मारीRajshrama sex store hinde.2019चुदाई कि कहानीकाली चुतHinde.sixey.store.comjabardasti chupkese chor akar chode xxxpapa ko swap karke sex story in hindiआवारा लडके ने मुझे चोदा कहानिया ghasai wali video sexxxx vidioसबके सामने कियामाँ का दीवाना हिंदी सेक्स स्टोरीमेरी जब आँख खुली तो देखा कि मैं अस्पताल में था hindi sex storchudvaya sfr meकुँवारी बहन के बोबेbina undergarment wali ki antarvasnaकुँवारी लड़की की चूत की फोटो अनेकमाँ के देहांत बाद बचपन से मौसी लंड की तेल मालीश करती चुदाई की कहानीयाअंकल से चुदवायाचूची सहायताट्रेन यात्रा मे चुदाई की कहानीbagabahar sex vidyoकिरायेदार अंकल ने गांड मारीmajak me chod diya chacheri mami ke beti koमेरे लण्ड के स्पर्श का अहसासडरो पति की चुड़ै कहानी हिंदीबेताब जवानी सेक्सी स्टोरीमेरी बुर की कीमत है मोटा लन्डचोदनKachchi kali ko khilaya pornLadkiyon ko shadi main dikhao xx image underwearमेरे परिवार की गैंगबैंग चुदाई देखीचुस रहै है हिरोइन Sex videoबहन ने राखी लुंड पर बढ़नीमौसी और मा की चुदाईmummy aur mummy ki beti ki jhhat banai hindi sex kahaniaबाप के साथ सुहागरात मनाईचुदाइ किकहानिब्रा पंतय की दुकान पर सेक्स हिंदी स्टोरीजbegani shadi mai bhen ki chut or gand fadi hindi storySalma antarvasnaaunty ki chudai me cockroach ghus Gaya Hindi sex storyअन्तर्वासना खेत मेंसेक्सी स्टोरी हिंदी दादाजी ने छोड़ाestoure cudaikeचुदाई एक गाँव की कहानीristo ma hindi xxx chudi story 20192018 की नंगी सेक्सी मौसी और बेटे की नंगे दूध खुले फोटो hdmombatti dalte dekh liya story xxxmeri nadan nanad hindi sex storyporn video hindi pelo ptak keभाभी ने गाँड कि गपागप चुदाईbhan shila सेक्स स्टोरीमै किसी के प्यार मैं फंस गई और उसने की मेरी गैंगबैंग चुदाईHindi xxx story mamyy ne kha bra ka huk lga de beta बहन के कमरे में घुस के चोदने का पोर्न वीडियोअन्तर्वासनाsafar me chudi ke Hindi khaneजैसे चूत फट जाएगीburi me land jate hi andr ka bhag lauko porn haमित्र आणि मम्मी marathi sex storySavita Chachi Aur Pados Ki Chudasi Auntiyan- Partआज जोर से कि ग ई चूतSex kahni terenहिंदी रंगीन परिवार चुदाई कहानीek. reshmi. ehsas. bur. chudai. storyPuchit land new hindi kathaचुत लडमाँ को बेटा का इन्तजार चुदाई कासेक्सी रंडी की चुदाई ब्लू फिल्मAntarvasnasexistories.comsexy story posan wale antyमामी ने भांजे से चुदवाया सेक्स कहनिया चुदाई सफर मेंमवशी बेटा की सेकसी बिडीवKhun vali chudaiRiston mein sex ka anokha majaधोखे से लैंड घुसा दियाMain meri maa aur karim hindi sex storyLadkiyon ko shadi main dikhao xx image underwearचुदकर चुदाईpapa NE mere chuche dabaye Hindi sex khaniya prison anti ki mjedar chudae ki khani hindi meXxx story ground ma ladki ki todi seal Hindi maChachi fufa or hamara naukar sex stories Khun vali chudaiCha dượng đụ luôn con gái.mp4वहशी लण्ड से गांड तृप्ती दिदि सेक्स काहानिहिन्दी जोर दार चुदाई कि कहानीsaree utarne ke bad xxnxसीमा भाभी की चूचि हिंदी सेक्सी कहानियाँ