समधी जी से चुदवाया

तभी मुझे विचार आया कि कहीं नीलम को बच्चा ठहर गया तो ? कही मलय मेरी बेटी को फुसलाकर केवल उसको भोग तो नही रहा है? मैं विचलित हो उठी।

अगले दिन जब शाम को नीलम घर लौटी तो मैंने उसके अपने कमरे में बुलाया और पूछा ,”तुम्हारा मलय से क्या चक्कर चल रहा है? १/२ महीने में तुम एमटेक हो जाओगी तब मलय तुमको चूस के भूल जायेगा।” मेरे इस तरह पूछने से नीलम सकपका गयी, वो समझ गयी की माँ को कल रात वाली बात पता चल गयी है। उसने कहा,” माँ, ऐसा नही है वो मुझे प्यार करता है और शादी करना चाहता है।”
उसकी बात सुन कर मेरे मन की कुछ शंकाए दूर हुयी और मैंने कहा,”नीलम यदि ऐसा है तो मुझे उसके माँ बाप से बात करनी पड़ेगी। क्या वो इसके लिए तैयार है?” नीलम ने सर हिला कर हाँ कहा और , मलय को मोबाइल से फोन कर के पूरी बात बता दी। उसके बाद मलय अगले दिन मेरे घर आया और मुझसे नीलम का हाथ माँगा। मैंने उससे उसके माता पिता से मिलने और बात करने के लिए कहा, तो उसने मेरे समने अपने पिता से बात की और मेरी बात करा दी।

मै इस शादी को जल्दी से तय कर देना चाहती थी इसलिए अगली छुट्टी वाले दिन मै तैयार होकर मलय के पिता से मिलने इलाहबाद चली गई। उनका नाम नरेंद्र प्रताप सिंह था, मेरी ही उमर के थे। उनकी आँखे बड़ी बड़ी थी और तेजी थी। उनका शरीर कसा हुआ था, एक मधुर मुस्कान थी उनके चेहरे पर। आकर्षक व्यक्तिव था, एक नजर में ही वो भा गये थे। उनकी पत्नी नहीं रही थी। पर वे हंसमुख स्वभाव के थे। दोनों परिवार एक ही जाति के थे। मलय के पिता बहुत ही मृदु स्वभाव के थे। उनको समझाने पर उन्होंने बात की गम्भीरता को समझा। वे दोनों की शादी के लिये राजी हो गये। शायद उसके पीछे उनका मेरे लिये झुकाव भी था। मैं ५० वर्ष की आयु में भी सुन्दर नजर आती थी, मेरे स्तन और नितम्ब बहुत आकर्षक थे। यही सब गुण मेरी पुत्री में भी थे।
कुछ ही दिनों में नीलम की शादी हो गई। वो मलय के घर चली गई। मैं नितांत अकेली रह गई। मेरा मन बहलाने के लिये बस मात्र कम्प्यूटर रह गया था और साथ था टेलीविजन का। कम्प्यूटर पर पोर्न साईट पर ब्ल्यू फ़िल्में देख लेती थी और बस उन्हें देख देख कर दिन काटती थी। मुझे ब्ल्यू फ़िल्म का बहुत सहारा था, उसे देख कर और रस निकाल कर मैं सो जाती थी। रोज का कार्यक्रम बन सा गया था। ब्ल्यू फ़िल्म देखना और फिर तड़पते हुये अंगुली या मोमबती का सहारा ले कर अपनी चूत की भूख को शान्त करती थी। गाण्ड में तेल लगा कर ठीक से मोमबती से गाण्ड को चोद लेती थी।

यह कहानी भी पड़े  डॉक्टर रश्मि की चालाकी -2

एक दिन मेरे समधी नरेंद्र प्रताप सिंह का फोन आया कि वे किसी काम से आ रहे हैं। मेरे समधी पहली बार मेरे घर आ रहे थे, मैंने उनके लिये अपने घर में एक कमरा ठीक कर दिया था। वो शाम तक घर आ गये । उनके आने पर मुझे बहुत अच्छा लगा। सच पूछिये तो अनजाने में मेरे दिल में खुशी की फ़ुलझड़ियाँ छूटने लगी थी। उनके खुशनुमा मिजाज के कारण समय अच्छा निकल रहा था।

उन्हें आये हुये दो दिन हो चुके थे और मुझसे वो बहुत घुलमिल गये थे। वो हसी मजाक करते थे जो मुझे बहुत अच्छा लगता था। अनजाने में ही उन्हें देख कर मेरी सोई हुई वासना जागने लगी थी। मुझे तो लगा था कि जैसे वो अब कहीं नहीं जायेंगे। सदा ही यही रहेंगे। एक बार रात को तो हद होगयी, मैंने सपने में उनको देखा और महसूस किया की वो मेरी छातियां दबा रहे है। अगली सुबह जब मैंने उन्हें चाय दी तो मै शर्म से गड़ी जारही थी और अपने गंदे ख्यालातों पर शर्म आ रही थी।

तीसरी रात को उनको खाना खिलने के बाद मै अपने कमरे में गयी और लेटी तो मेरे दिमाग में ब्ल्यू फिल्म घूमने लगी और वासना मेरे अंदर हलचल करने लगी। बाहर बरसात होने लगी थी और पानी की आवाज मेरे मन को और पंख दे रही थी। मेरा उस बंद कमरे में दम घुटने लगा था मै बैचैन हो कर कमरे से बाहर गेलरी में आ गई। तभी बिजली चली गई। बरसात के दिनो में लाईट का जाना यहाँ आम बात है। मैं सम्भल कर चलने लगी। तभी मेरे कंधों पर दो हाथ आकर जम गये। मैं ठिठक कर मूर्तिवत खड़ी रह गई। वो हाथ नीचे आये और बगल में आकर मेरी चूचियों की ओर बढ़ गये। मेरे जिस्म में जैसे बिजलियाँ कौंध गई। उसके हाथ मेरे स्तन पर आ गये।
“क्…क्…कौन ?”

यह कहानी भी पड़े  सेक्सी नौकरानी को चोद्द के बच्चा दिया

“श्…श्… चुप …।”

वो हाथ मेरे स्तनों को एक साथ सहलाने लगे। मेरे शरीर में तरंगें छूटने लगी। मेरे भारी स्तन के उभारों को वो कभी दबाता, कभी सहलाता तो कभी चुचूक मसल देता। मैं बिना हिले डुले जाने क्यूँ आनन्द में खोने लगी। तभी उसके हाथ मेरी पीठ पर से होते हुये मेरे चूतड़ों के दोनों गोलों पर आ गये। दोनो ही नरम से चूतड़ एक साथ दब गये। मेरे मुख से आह निकल पड़ी। उसकी अंगुलियाँ उन्हें कोमलता से दबा रही थी और कभी कभी चूतड़ों को ऊपर नीचे हिला कर दबा देती थी। मन की तरंगें मचल उठी थी। मैंने धीरे से अपनी टांगें चौड़ी कर दी। उसके हाथ दरार के बीच में पेटीकोट के ऊपर से ही अन्दर की ओर सहलाने लगे। धीरे धीरे वो मेरी चूत तक पहुँच गये। मेरी चूत की दरार में उसकी अंगुलियाँ चलने लगी। मेरे अंगों में मीठी सी कसक भर गई। मेरी चूत में जोर से गुदगु्दी उठ गई।

Pages: 1 2 3 4 5

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


हिंदी सेक्सी कहानियाँ खुलम खुलाBibi boli meri cheekhe nikalo Hindi sex storyWWW आम SAXY story.comMaa aur beti ki Luka chuppi chudai xxx video hdfimsex vangorgstories masuka ki gaand me pelaपापा और उनके दोस्तो के साथ सामूहिक छुड़ाईglrlfarand se sexke bata story hindiपत्नी की बुर मुँह में लंड चुदाईGundo ne safar ki chudai hindiकलाश रूम मे चुत कहानीचोदा चोदी की फोटोकिराएदार से पोर्न हिन्दी स्टोरीantarvasnadoctor ke pas gaya की चुदाई कहानियाँ .comचुदाई चुदाईभुआ की चुदाईअंकल बेटे मिली भगत माँ की चुदाईsar.padhani.ayi.teusan.ladhake.ki.sath.sex.keya.vedionangi samuhik besaram chudai kahanixxx vidos mammi ammrika दो लंडसे चुदाईसविता भाभी पढ़ा रही हैsex bideo bhai ne bahen ko patk ke chudai ki dabkeएक भाई की वासनाबस मै मज़े दिएek majboor pati ki dastan kahaniराज शर्मा हिंदी सेक्स स्टोरी माँ बेटा खेत मेंsexy stori mommy ne tiren me gurup chudai ki xxxचुदाई कहानी कामवालीगंवार मुझे जिंदा senk gusana लड़कियों सेक्स codna hai टब 7माँ की घर में चुदाईबुआ का चोदा पापा के साथ मिलकरसेक्स स्टोरी अब्बू से मैंनेहिंदी सेक्सी कहानियाँ खुलम खुलाकाली चुतHinde.sixey.store.comसेक्स हिंदी stories sale ki biwiट्रेन के सफर मे चुदाईअंकल बेटे मिली भगत माँ की चुदाईRajshrama sex store hinde.2019halala ke bad chudwaiचोदनXXX SHCHI TAUR VIDEO COM सामूहिक merivasnaभाभी के गोरे बोबेमम्मी की,मस्त चूदाईviagra khakar aunty ki chtdai kahaniताऊ और माँ कि चुदाई खेत मेबुआ ने मेरा मोटा लंड देख चुदने से मना लियाsexkahanisalwarलड़कियों की चूत की चुदाईकमला की चुदासी अमर भैया सेbhai bhin sex storees xxxमेरा लंड सिकंदर बड़ी साली की चूत के अन्दर-4xxx com maja aata h kaseलंड पे मंगलसूत्र लपेट के चूसभाभी ने चुत मारना सिखायाएक अनोखा संयोग 2 sex stories चुची और चुदाई की कहानीjawan kachi kalio ke sarab sex ke dirty kahaniaचूत का नसापायल चुत चाटीकोमल की कामुक कहानिया jahaaz k ander chudayi.sarif larki ki seal todi bahana banakar in hindiरात भर मेरी चूत जो चोदा बेदर्दी नेMajburi Mai mujhe chudna pada antarvasna storiesBur ke chhed me Land Ghusakar maza Marane ki kahaniसोती हुई भाभी की चड्डी देखा कहानियाGosiya mast sex hdmajak me chod diya chacheri mami ke beti koपानी मेsexमालकिन की चुदाईपापा से घमासान चुदायी कहानी रिस्तों में मामी-भांजा चुदाईKamukata naursebahen ki chudai nahaya sex story writtenBiwi ki kamuktaलडकी चुत