समधी जी से चुदवाया

तभी मुझे विचार आया कि कहीं नीलम को बच्चा ठहर गया तो ? कही मलय मेरी बेटी को फुसलाकर केवल उसको भोग तो नही रहा है? मैं विचलित हो उठी।

अगले दिन जब शाम को नीलम घर लौटी तो मैंने उसके अपने कमरे में बुलाया और पूछा ,”तुम्हारा मलय से क्या चक्कर चल रहा है? १/२ महीने में तुम एमटेक हो जाओगी तब मलय तुमको चूस के भूल जायेगा।” मेरे इस तरह पूछने से नीलम सकपका गयी, वो समझ गयी की माँ को कल रात वाली बात पता चल गयी है। उसने कहा,” माँ, ऐसा नही है वो मुझे प्यार करता है और शादी करना चाहता है।”
उसकी बात सुन कर मेरे मन की कुछ शंकाए दूर हुयी और मैंने कहा,”नीलम यदि ऐसा है तो मुझे उसके माँ बाप से बात करनी पड़ेगी। क्या वो इसके लिए तैयार है?” नीलम ने सर हिला कर हाँ कहा और , मलय को मोबाइल से फोन कर के पूरी बात बता दी। उसके बाद मलय अगले दिन मेरे घर आया और मुझसे नीलम का हाथ माँगा। मैंने उससे उसके माता पिता से मिलने और बात करने के लिए कहा, तो उसने मेरे समने अपने पिता से बात की और मेरी बात करा दी।

मै इस शादी को जल्दी से तय कर देना चाहती थी इसलिए अगली छुट्टी वाले दिन मै तैयार होकर मलय के पिता से मिलने इलाहबाद चली गई। उनका नाम नरेंद्र प्रताप सिंह था, मेरी ही उमर के थे। उनकी आँखे बड़ी बड़ी थी और तेजी थी। उनका शरीर कसा हुआ था, एक मधुर मुस्कान थी उनके चेहरे पर। आकर्षक व्यक्तिव था, एक नजर में ही वो भा गये थे। उनकी पत्नी नहीं रही थी। पर वे हंसमुख स्वभाव के थे। दोनों परिवार एक ही जाति के थे। मलय के पिता बहुत ही मृदु स्वभाव के थे। उनको समझाने पर उन्होंने बात की गम्भीरता को समझा। वे दोनों की शादी के लिये राजी हो गये। शायद उसके पीछे उनका मेरे लिये झुकाव भी था। मैं ५० वर्ष की आयु में भी सुन्दर नजर आती थी, मेरे स्तन और नितम्ब बहुत आकर्षक थे। यही सब गुण मेरी पुत्री में भी थे।
कुछ ही दिनों में नीलम की शादी हो गई। वो मलय के घर चली गई। मैं नितांत अकेली रह गई। मेरा मन बहलाने के लिये बस मात्र कम्प्यूटर रह गया था और साथ था टेलीविजन का। कम्प्यूटर पर पोर्न साईट पर ब्ल्यू फ़िल्में देख लेती थी और बस उन्हें देख देख कर दिन काटती थी। मुझे ब्ल्यू फ़िल्म का बहुत सहारा था, उसे देख कर और रस निकाल कर मैं सो जाती थी। रोज का कार्यक्रम बन सा गया था। ब्ल्यू फ़िल्म देखना और फिर तड़पते हुये अंगुली या मोमबती का सहारा ले कर अपनी चूत की भूख को शान्त करती थी। गाण्ड में तेल लगा कर ठीक से मोमबती से गाण्ड को चोद लेती थी।

यह कहानी भी पड़े  डॉक्टर रश्मि की चालाकी -2

एक दिन मेरे समधी नरेंद्र प्रताप सिंह का फोन आया कि वे किसी काम से आ रहे हैं। मेरे समधी पहली बार मेरे घर आ रहे थे, मैंने उनके लिये अपने घर में एक कमरा ठीक कर दिया था। वो शाम तक घर आ गये । उनके आने पर मुझे बहुत अच्छा लगा। सच पूछिये तो अनजाने में मेरे दिल में खुशी की फ़ुलझड़ियाँ छूटने लगी थी। उनके खुशनुमा मिजाज के कारण समय अच्छा निकल रहा था।

उन्हें आये हुये दो दिन हो चुके थे और मुझसे वो बहुत घुलमिल गये थे। वो हसी मजाक करते थे जो मुझे बहुत अच्छा लगता था। अनजाने में ही उन्हें देख कर मेरी सोई हुई वासना जागने लगी थी। मुझे तो लगा था कि जैसे वो अब कहीं नहीं जायेंगे। सदा ही यही रहेंगे। एक बार रात को तो हद होगयी, मैंने सपने में उनको देखा और महसूस किया की वो मेरी छातियां दबा रहे है। अगली सुबह जब मैंने उन्हें चाय दी तो मै शर्म से गड़ी जारही थी और अपने गंदे ख्यालातों पर शर्म आ रही थी।

तीसरी रात को उनको खाना खिलने के बाद मै अपने कमरे में गयी और लेटी तो मेरे दिमाग में ब्ल्यू फिल्म घूमने लगी और वासना मेरे अंदर हलचल करने लगी। बाहर बरसात होने लगी थी और पानी की आवाज मेरे मन को और पंख दे रही थी। मेरा उस बंद कमरे में दम घुटने लगा था मै बैचैन हो कर कमरे से बाहर गेलरी में आ गई। तभी बिजली चली गई। बरसात के दिनो में लाईट का जाना यहाँ आम बात है। मैं सम्भल कर चलने लगी। तभी मेरे कंधों पर दो हाथ आकर जम गये। मैं ठिठक कर मूर्तिवत खड़ी रह गई। वो हाथ नीचे आये और बगल में आकर मेरी चूचियों की ओर बढ़ गये। मेरे जिस्म में जैसे बिजलियाँ कौंध गई। उसके हाथ मेरे स्तन पर आ गये।
“क्…क्…कौन ?”

यह कहानी भी पड़े  सेक्सी नौकरानी को चोद्द के बच्चा दिया

“श्…श्… चुप …।”

वो हाथ मेरे स्तनों को एक साथ सहलाने लगे। मेरे शरीर में तरंगें छूटने लगी। मेरे भारी स्तन के उभारों को वो कभी दबाता, कभी सहलाता तो कभी चुचूक मसल देता। मैं बिना हिले डुले जाने क्यूँ आनन्द में खोने लगी। तभी उसके हाथ मेरी पीठ पर से होते हुये मेरे चूतड़ों के दोनों गोलों पर आ गये। दोनो ही नरम से चूतड़ एक साथ दब गये। मेरे मुख से आह निकल पड़ी। उसकी अंगुलियाँ उन्हें कोमलता से दबा रही थी और कभी कभी चूतड़ों को ऊपर नीचे हिला कर दबा देती थी। मन की तरंगें मचल उठी थी। मैंने धीरे से अपनी टांगें चौड़ी कर दी। उसके हाथ दरार के बीच में पेटीकोट के ऊपर से ही अन्दर की ओर सहलाने लगे। धीरे धीरे वो मेरी चूत तक पहुँच गये। मेरी चूत की दरार में उसकी अंगुलियाँ चलने लगी। मेरे अंगों में मीठी सी कसक भर गई। मेरी चूत में जोर से गुदगु्दी उठ गई।

Pages: 1 2 3 4 5

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


Frind ke sade me sex vedio hindejawan kachi kalio ke sarab sex ke dirty kahaniadidi ko kosa bari me choda 2 hindi sex kahaniMaire phuphi land ki pyassemeri kamuk mummy or bua jibarsat kiraat m sex khaniyaबुरनर्स हिंदी सेक्स स्टोरीantarvasna samdhi jiAntarvasna dono padosan anty ki galiyaसेक्स माँ से ऑनलाइन चीटिंग चुदाई सेक्स कहनीप्यासी चुतmaderchod beta Hindi sex storyसिगरेट दारू लांबी चुदाई कथाखिड़की में से चुदाई देखकर चुदाई कीचोदआज जोर से कि ग ई चूतमैंने उसकी गांड को चोद के उसका छेद बड़ा कर दियाxxx story hindi train me chooti bahen ko goad me baithayphim xes pham bang bangboor se pesab sex storieschoti bhan ko choda srdiyo mebhabhi ke sang meri antarvasna part 2Choot ka jharna antarvasanचुदाई की कहानियांशादी मे बहु के बुर झाट देखा कर की चोदई की कहनीट्रेन में माँ की चुदाईरीतु चुदाई दीदी शरदीभाभी को पटककर जबरदस्ती चोदाई कीpuaabe.phoh.lav.storeपहला सेख्स अनुभवsabna mel kar codamangalsutra bra antarvasnaantarvasna दीदी की sopingचुदवाने का मनबुआ अन्तर्वासनाJism ki aag man n dil ka kya kasoor sex storieschoudashi haus waif .com kahaniरात भर मेरी चूत जो चोदा बेदर्दी नेसिमा की च**** की कहानी.commama ke 12 inch ke land se khet me bur fadwayihindisexstoriessiteअकेले घर में पड़ोस की लड़की को बहाने Sex storyसेक्स स्टोरी हिंदी सविता भाभी braआंटी की चूत मीटी डिलडो डाल कर करती थी काहनियाआम दाब xxxगांड चाटके चूदाईbhai behan ke chodneki kahaniya avaje nikalke chndnaAntrvasna mosi mosa or Mai ek sath Soye bad parपतली लड़की की चूतसेक्स स्टोरी हिंदी सविता भाभी brachare bhai milne aya sabita bhabhi se story hindihavili antarvasnaमौसी और मा की चुदाईdada ke samne poti ki chudai kahaniमोटे लंड से चुदाई की कहानियांKhet Porn maa choda kahaniPuchit land new hindi kathaगर्लफ्रेंड को चोदा कहानीहनीमून चुदाई कहानी हिंदीSexstory badylund chod chod kar burahaal kia hindi8 logo ka pariwar sex storyKarsanji ki kahaniyan hindi meमाँ की सेकसी कथाएantervasna dot comChudai ke baad choot picspissab piya threesome hindi sex storiesMom ke saath kitchan mein chudai ki part 1kirayedar aunty sex story in hindiभाभी को चुदते देखा