प्रेमी बेकार भाई बरक़रार

मेरी सहेली स्वीटी ने एक दिन मुझे अपनी आप बीती सुनाई। उसी के शब्दों में पढ़िये यह कहानी।

मैं शहर की एक घनी आबादी में रहती हूँ। आस पास दुकानों के अलावा कुछ नहीं है। मेरे पड़ोस में मेरे ऊपर वाले कमरे के सामने ही एक कॉलेज का विद्यार्थी रहता था। मैंने जब पढ़ाई के लिये ऊपर वाले कमरे में शिफ़्ट किया था तो मेरी नजर उसकी खुली हुई खिड़की पर पड़ी। मैंने अपनी खिड़की पर पर्दा लगा लिया कि जो कोई भी वहां रहता हो मुझे नहीं देख पाये। पर कुछ ही दिनों में मुझे पता चल गया कि उस कमरे में आशीष रहता था जो मेरे ही कॉलेज में पढ़ता था। शायद उसे कमरा अभी ही किराये पर दिया था। मैं रात को देर तक पढ़ती थी। आशीष भी रात को देर तक पढ़ता था। मैं कभी कभी झांक कर खिड़की से उसे देख लेती थी।

एक बार हमारी नजरें मिल ही गई। अब हम दोनों छुप छुप कर एक दूसरे को देखा करते थे। एक बार तो आशीष खिड़की पर आ कर खड़ा ही हो गया। मुझे सनसनी सी आ गई। मैंने जल्दी से पर्दा कर दिया और पर्दे के पीछे से उसे देखने लगी, मेरा पर्दे में से देखना उसे पता था। अब वो मुझमें रूचि लेने लगा था। मुझे देख कर वो मुस्कुराता भी था। एक दिन उसने मुझे हाथ भी हिला कर अभिवादन किया था। धीरे धीरे मैं भी उससे खुलने लग गई और उसे देख कर मुस्कुराती थी।

कुछ ही दिनो में हम रात को जब कभी एक दूसरे को देखते थे तो मैं भी हाथ हिला देती थी। एक बार पत्थर में लिपटा हुआ एक कागज मेरे खिड़की के अन्दर आ गिरा। मेरा दिल धक से रह गया। मैंने उसे उठाया। तो वह आशीष का पत्र था। एक साधारण सा पत्र, जिसमें सिर्फ़ शुभकामनायें थी। मैंने उसे फ़ाड़ कर नीचे फ़ेंक दिया। एक दिन मैंने भी उसे पत्र लिख दिया और उसे भी शुभकामनायें दी। बस पत्रों का सिलसिला चालू हो गया। एक दिन उसकी एक फ़रमाईश आ गई।

यह कहानी भी पड़े  भाई और बहन की चुदाई

“स्वीटी, सिर्फ़ एक हवाई किस करो !”

मैंने शरारत में उसे हवाई किस कर दिया। अब हम पत्रों में खुलने लगे। उसने एक बार लिख दिया कि वो मुझे प्यार करता है और मिलना चाहता है। मेरा दिल बस इसी चीज़ से डरता था। मैंने मना कर दिया।

एक बार उसने लिखा- मुझे अपनी चूंचियाँ खिड़की से दिखा दो।

मैंने शर्माते हुए मेरा एक स्तन उसे दिखा दिया। मैंने जवाब में लिखा- मैं भी कुछ देखना चाहूंगी, क्या दिखाओगे?

तो उसने अपना पजामा नीचे खींच कर अपना खड़ा हुआ लण्ड दिखाया। मुझे बड़ा रोमान्च हो आया। मुझे मजा भी आया। अब जब तब हम एक दूसरे को अपने गुप्त अंग दिखा दिखा कर मनोरंजन करने लगे।

मुझे ये नहीं पता था कि मैं जो पत्र फ़ाड़ कर नीचे फ़ेंक देती थी उसे मेरा छोटा भाई उठा कर जोड़ कर पढ़ लेता था। यहाँ हमारी प्यार और सेक्स की पींगे बढ रही, वही भैया भी मुझे चोदने का प्लान बनाने लग गया था।

एक रात को मैंने पत्र आशीष की खिड़की में फ़ेंका तो वो खिड़की से टकरा कर नीचे गिर गया। मैं भाग कर नीचे गई तो वो मुझे नहीं मिला, रात में कहाँ गिरा होगा मुझे पता नहीं चला। सुबह ढूँढने की सोच लेकर मैं ऊपर आ गई। देखा तो भैया मेरे कमरे में था। उसने कहा,“इसे ढूँढने गई थी क्या?”

“भैया, मुझे वापस दे दो, देखो किसी को बताना नहीं !”

उधर आशीष ने देखा कि कमरे में भैया है तो उसने खिड़की बन्द कर ली।

“बताऊंगा तो नहीं अगर, जो मैं कहूँ वो करेगी तो !”

यह कहानी भी पड़े  चाचा चाची की मिली भगत

हम बिस्तर के बिस्तर पर दीवार का सहारा ले कर बैठ गये।

“हां हां कर दूंगी, इसमें क्या है…फिर वो दे देगा !”

“हां ज़रुर दे दूंगा… तो फिर टॉप को थोड़ा ऊपर कर दे…”

“क्या कहा…मैं तेरी बहन हूँ !” मैं उछल पड़ी।

“तो क्या… पापा से बचना है तो मुझे दुद्धू दिखा दे !” उसने मुझे धमकी दी।

मैंने हिम्मत करके अपनी आंखे बन्द कर ली और टॉप ऊपर उठा लिया। मेरे दोनो स्तन बाहर छलक पड़े। भैया ने तुरन्त मेरे स्तनों को पकड़ लिया और दबा दिया।

“ना कर भैया … “ पर जैसे मेरे शरीर में बिजली कड़क उठी। सारा जिस्म एकबारगी कांप गया। मीठी सी लहर दौड़ गई।

“अब अपना स्कर्ट ऊपर कर…”

“ऐसे तो मैं नंगी दिख जाऊंगी ना !”

“वही तो देखना है…आशीष को तो खूब दिखाती है !”

“ पर वो मेरा भाई थोड़े ही है” मैं नर्वस होती जा रही थी। पर जिस्म में एक सनसनी फ़ैल रही थी। मैं भी अब वासना में बह निकली।

“दीदी, दिखा दे ना, अच्छा देख फिर मैं भी अपना तुझे दिखाऊँगा !”

“सच, तो पहले दिखा दे, कैसा है तेरा?” मेरे स्वर भी बदलने लगे।

मुझे भैया अब सेक्सी लगने लगा था। उसकी बाते मुझे रंग में लाने लगी थी। मेरा मन अब डोलने लगा था। भैया ने जल्दी से अपना पैन्ट उतार दिया दिया और उसका लण्ड बाहर निकल आया।

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


Hindi sexkhaniya momsjaglo.ki.chudae.do.ghnte.videohavili M kaki antarvasnaचाची को हवाई जहाज मे चुतpapa ko swap karke sex story in hindianravasna sex sorty handi pik Randi ki khahani.pdf downloadantervasna khani ke sath ladki ne phone namber daleChuddakadh salma hindi chudai kahaniyaमकान मालकिन की सहेली की चुदाईमम्मी को बेटे ने 11इच के लौडे से चोदा सेकस ईटोरीतैरना सिखाने के बहाने चुत कहानियाँ चुदाई कि कहानीचुदantarvasna taiantarvasna.karvachoth pe muslim se chudhiसविता भाभी को अशोक के चाचाजी ने चोदागरम चुदाई वहन कीDidi aapki gand bhut sexy hgandu chuda bus me storiमेरी कमला भाभी कि प्यास बझाईholi m chudai kpde fadker chudai storyमेरे सामने नंगी खड़ी थीX.antarwasnaभाभी के बुर का स्वाद कहानीBhabi ki peticot me cockroach Xnxx pim han quocMishtichr xxx kolejचुतxxxindia हिंदी की हलचलपरिवार में हगते मूतते गंदी चुदाई की कहानीलंडpapa ka pyar part3घोड़ी बनकर गांड मरवाईआज जोर से कि ग ई चूतनैंसी की चूत मारीमराठी सेक्स कथा मावशी बाथरूमपूजा शाली को चोदासंजू जी की चुदाई खुले खेत में होल में बीबी की छुडवाया कहानी कॉमwww.larki kd bobo me dud kese utpan hota haisali ki beti ka kuwara yovan cudai kahaniBadsurat aurat Hindi sex storyantarvasna दीदी की sopingचची की चुदाई बेटी के सामनेBhabhi k samne nanad apne pati se chudwati hai story in hindi choot pr land ragad diyaAntarvasnasexKahaniya. Comभाभी और मेरी अंतरवासनाgandchodaibhabhikamuk lambi kahanimere doodh ki tanki sex story hindiचूत से पानी टपकने लगाबुआ की सील तोडीusha chudae khet meदुकान मे औरतो वाले सामन की XXX कहानियाBiwi ki kamuktaबहु ने हेंड जॉब की रात में ससुर जी कीबहन चॅदचोदु परिवार की चुदाईXnxx pim han quoc2018 की नंगी सेक्सी मौसी और बेटे की नंगे दूध खुले फोटो hdभाई ने छूट की ओपनिंग कीBe libas chudai kahaniमेरा लंड सिकंदर बड़ी साली की चूत के अन्दर-4रण्डी की चुदाई कहानीबीवी ने दिलाई बहु की बुर की चोदई की कहनीमेरी बीवी ने हम दोनों के लंडचूची सहायतासेक्सी कहानिया ओडीयो हिदी बतैपरिवार मेँ माँ पापा भाई बहिन की एकसाथ चूदाई की कहानियाँमामी के बुर मेलंड कहानी