मेरी मौसी सास को जमकर चोदा

मैनें चूत के छेद से एक इंच उपर यानी गांड के गोल छेद पर अपने लंड का सुपाड़ा टिकाया और सूजी के कुल्हे पकड़ कर जोर लगाया, चूत के रस से चिकना सुपाड़ा गांड के छेद को फैला कर थोड़ा सा अन्दर घुस गया, मैं मन में सोच रहा था की सूजी के मुंह से चीख निकल जायेगी, परन्तु ऐसा नहीं हुवा, उसने सिर्फ सिसकी भर कर अपना सीर ताना, तब मैनें अपना पुरा लंड उसकी गांड में सरका दिया,

इस पर भी जब सूजी ने तकलीफ जाहिर नहीं की तो मैं समझ गया सूजी गांड मरवाने की आदि है, उसने सिर्फ कस कर अपने होंठ भींचे हुवे थे, फिर भी मैनें पूछा,

” तकलीफ तो नहीं हो रही है ना सूजी,”

” नहीं तुम धीरे धीरे चोदते रहो,” उसने कहा तो मैं उसके गोल मटोल कुल्हे थपथपा कर धीरे से झुका और दोनों हाँथ निचे लाकर दोनों चुचियों को पकड़ कर उसकी गांड मारने लगा, थोडी देर बाद मैनें धक्के तेज कर दिये, मुझे तो उसकी चूत से अधिक उसकी गांड में अपना लंड कसा होने के कारण ज्यादा मजा आ रहा था, और जब मेरे धक्कों ने प्रचंड रूप धारण कर लिया तो सूजी एकदम से बोली,

” …बस…अब अपना लंड मेरी गांड में से निकाल कर मेरी चूत में डाल दो,”

” क्यों ” मैनें रुक कर पूछा,

” क्योंकि मैं तुम्हारा वीर्य अपनी चूत में गिरवाना चाहती हूँ,”

सुन कर मैं मुस्कुराया और अपना लंड गांड में से खिंच कर वापस उसकी चूत में घुसेड़ दिया, मैनें फीर जोर जोर से धक्के लगाने शुरु कर दिये थे, मगर इस बार सूजी को कोई परेशानी या दर्द नहीं हुवा था, बल्कि अब तो वो दुबारा मस्ती में भर कर अपने कुल्हे आगे पीछे ठेल कर मेरा पुरा साथ देने लगी थी, इतनी देर बाद भी मैं सूजी को मंजिल पर पहुंचा देने के बाद ही मैं झडा, सूजी भी कह उठी,

यह कहानी भी पड़े  गर्मी की वो रात पापा के चुदाई साथ

” मर्द हो तो तुम जैसा, एकदम कड़ियल जवान,”

” और औरत हो तो तुम जैसी एकदम कसी हुई,” जवाब में मैनें भी कहा, फिर हम दोनों एक दुसरे की बाहों में समां गये,

मौसा जी को जहां दो दिन बाद आना था, दो दिन तो दूर की बात वो पुरे पांच दिन बाद आये,और उन पांच रातों का मैनें और सूजी नें भरपूर लाभ उठाया, सूजी हर रोज मेरी बीबी को नींद की गोलियां देकर सुला देती और हम दोनों अपनी रात रंगीन करते, मौसा जी के आने के बाद ही हमारा ये चुदाई का खेल रुका, इस बिच मौसी यानि सूजी बहुत उतावली रहती थी, वो मेरे एकांत में होने का जरा जरा सा बहाना ढुंढती थी,

मैं इस बात को उस वक्त ठीक से नहीं समझ सका की सूजी मेरी इतनी दीवानी क्यों है, क्या मौसा जी में कोई कमी है या वे इसे ठीक से चोद नहीं पाते? जबकि देखने भालने में वे ठीक ठाक थे,

सूजी मेरी इतनी दीवानी क्यों है? इसका जवाब मेरे दिमाग ने एक ही दिया की या तो वो मेरे लंड की ताकत से दीवानी हुई है या फिर मौसा जी उसे ढंग से चोद नहीं पाते होंगे, हम महिना भर वहाँ रहे, इस बिच हमने यदा कदा मौका देख कर चुदाई के कई राउंड मारे,

जब हम वहाँ से आने लगे तो सूजी ने मुझे अकेले में ले जाकर कहा,

” जल्दी जल्दी राउंड मारते रहना मुझे और मेरी चूत को तुम्हारे लंड का बेसब्री से इंतजार रहेगा,

मैनें इतनी चाहत का कारण पूछा तो उसने यही बताया की ” वे ” यानी की उसके पति उसे ठीक से चोद नहीं पाते, मेरा शक सही निकला, मौसा जी की कमी के कारन ही वो मेरी तरफ झुकी,

यह कहानी भी पड़े  चुदासी चाची की कामुकता भरी कहानी

मेरा दिल भी उसे छोड़ कर जाने का नहीं कर रहा था, मगर मज़बूरी वश मुझे वापस आना पड़ा, आने के एक हफ्ता बाद ही मैं बीबी को बिना बत्ताये दुबारा सूजी के यहाँ पहुँच गया, वो मुझे देख कर बहुत खुश हुई,

मैं इस बार चार दिन वहाँ रहा और चारों दिन सूजी को खूब चोदा, क्योंकि मौसा जी के ऑफिस जाने के बाद मैं और सूजी ही घर में रह जाते और खूब रंगरेलियां मनाते, अब तो मेरी बीबी का भी खतरा नहीं था, मौसा जी को भी हम पर कोई शक होने वाला नहीं था, क्योंकि रिश्ते के हिसाब से मैं सूजी का दामाद हूँ, मौसा जी भी मुझे दामाद जैसी इज्जत देते,

इसी का फायदा उठा कर मैं हर महीने सूजी के यहाँ जाकर पूरी मौज मस्ती करके आता था, हमारा ये क्रम पांच महिने तक चला, उसके बाद जब एक महिने पहले सूजी के यहाँ पहुंचा तो उसका ब्यवहार देख कर मैं बुरी तरह चौंका, वो मुझे देख कर जरा भी खुश नहीं हुई और ना ही मुझसे एकांत में मिलने की कोई कोशिश की, और जब मुझे बहुत ज्यादा परेशान देख कर मुझसे मिली तो उसके चेहरे पर सदाबहार मुस्कान की जगह रूखापन था, मैनें इसका कारण पूछा, और उसने जो कुछ मुझे बताया उसे सुन कर तो मेरे पैरों के निचे से जमीन ही निकल गई, उसने बताया की…

Pages: 1 2 3 4 5 6

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


माँ की चुदाई पडोस के पत्ती के दोस्त सेgadchudwati ass bhabhi ki kahanidaru ke nashe me chudai nonveg story.लंड बच्चेदानी से टकरायासेक्स कथा झोपेत लंड पकडलाचची की छूट की गर्मी मुझसे उतरी हिंदी स्टोरीsex story in hindi of grmardपहला लण्डपानी मेsexसेक्स माँ से ऑनलाइन चीटिंग चुदाई सेक्स कहनीमाँ को घोड़े पर बिठा कर चोदाSex bare chuchi and chut or bare landMain meri maa aur karim hindi sex storyHindi.sexi.kahaani.maa.bhu.papa.beta.shathचुतbehan ka gangbang birthday sex storyमेंरी माँ ने मुझसे जमकर चुदवायाJawan ladki ki chudaiअनकंट्रोल सेक्सीय माँ स्टोरीय सेक्स वीडियोटेबल पर बहु की चुदाई की कहानीpapa ki pari chud gayi storyचूतभूरीशेकश कदी नवीन बिबिdildo ko chut me liya aagpinku Ko khet me sil Pak cudai kahanipappih saxy vidioमेरे लण्ड के स्पर्श का अहसासमामी भांजे क xxx.commeri mangalsutra apne land me lapet kar choda adio sex storiकच्ची उम्र दूध सेक्सbahanchod bhai bahan ki chut maregabhabhi ke sang meri antarvasna part 2सहलाने लगासास की चूतkamvale ke must chudae khane xxxदेसी चूत नईसेक्स कथा झोपेत लंड पकडलाland chut ki nipal dabata hindi storyNurs ki jhante kahaniमुझे लंड चूसना है यार सेक्स स्टोरीnate bakt bhena ke codae story hinde memama bhanjisex kathasexy besharam biwi kathaधार्मिक मा का गदराया बदनपड़ोस की भाभी को पता केर छोडा स्टोरीजxxx vidos mammi ammrika चुतआंटी कमर के लडके चुदवाईरेनू को अकेले मे गाड मरी जबरदस्ती हिंदी सेक्स स्टोरीछूटे की चुदाई अपने हाथ सेdaroo pilaje larkiyo ko chodne wala videopanchagani me biwi ki chudaisasural me meri chudai rajsharma sexstoryमैं मेरी सहेली ने मेरी चूत चुदाई गैर मर्द के मोटे लुंड सेदीदी पापा की दोरुत से चूदाई रात दिनभाई ने मेरे को चोदचूत फटने लगीचूत से पानी टपकने लगाbuaa ki chudai ki kahania sexbaba.commomedn sex khane chacheराज शर्मा सेक्स स्तोरियेसनशिली आंटीया सेस्क स्टोरीNurs ki jhante kahaniMuslim ka damdar lund chudaiबेबस दीदी को छोड़ा सेक्स स्टोरीजकमली काकी के सैक्स विडियोमेरी चूत फट गयी आहsexhindikahaniburसेकस कयाहैग्रुप में दर्द चुदाई कहानीचुदाई कच्ची कली कीSexstory badylund chod chod kar burahaal kia hindiमाँ की चूत फोटो चोदकर माँ बनायायास्मीन की चूत मरीचोदाई के सभी फोटोदो बहनो की चुदाई कहानी दादी की गाङ मारीअन्तर्वासना सेक्सी सफर कहनिया ट्रैन मई