केले का भोज Part – 3

“निशा, सुन रही हो ना। अगर मना करना है तो अभी करो।”

“निशा, तुम…. मैं नहीं चाहता, लेकिन इसमें तुम पर… कुछ जबरदस्ती करनी पड़ेगी, तुम्हें सहना भी होगा।” सुरेश की आवाज में हमदर्दी थी। या पता नहीं मतलब निकालने की चतुराई।

कुछ देर तक दोनों ने इंतजार किया,”चलो इसे सोचने देते हैं। लेकिन जितनी देर होगी, उतना ही खतरा बढ़ता जाएगा।”

सोचने को क्या बाकी था ! मेरे सामने कोई और उपाय था क्या?

मेरी खुली टांगों के बीच योनिप्रदेश काले बालों की समस्त गरिमा के साथ उनके सामने लहरा रहा था।

मैंने नेहा के हाथ के ऊपर अपना हाथ रख दिया- जो सही समझो, करो !

“लेकिन मुझे सही नहीं लग रहा।” सुरेश ने बम जैसे फोड़ा,”मुझे लग रहा है, निशा समझ रही है कि मैं इसकी मजबूरी का नाजायज फायदा उठा रहा हूँ।”

बात तो सच थी मगर मैं इसे स्वीकार करने की स्थिति में नहीं थी। वे मेरी मजबूरी का फायदा तो उठा ही रहे थे।

“खतरा निशा को है। उसे इसके लिए प्रार्थना करनी चाहिए। पर यहाँ तो उल्टे हम इसकी मिन्नतें कर रहे हैं। जैसे मदद की जरूरत उसे नहीं हमें है।”

उसका पुरुष अहं जाग गया था। मैं तो समझ रही थी वह मुझे भोगने के लिए बेकरार है, मेरा सिर्फ विरोध न करना ही काफी है। मगर यह तो अब …..

“मगर यह तो सहमति दे रही है !”, नेहा ने मेरे पेड़ू पर दबे उसके हाथ को दबाए मेरे हाथ की ओर इशारा किया। उसे आश्चर्य हो रहा था।

“मैं क्यों मदद करूँ? मुझे क्या मिलेगा?”

सुनकर नेहा एक क्षण तो अवाक रही फिर खिलखिलाकर हँस पड़ी,”वाह, क्या बात है !”

सुरेश इतनी सुंदर लड़की को न केवल मुफ्त में ही भोगने को पा रहा था, बल्कि वह इस ‘एहसान’ के लिए ऊपर से कुछ मांग भी रहा था। मेरी ना-नुकुर पर यह उसका जोरदार दहला था।

यह कहानी भी पड़े  लोकल बस मे मेरी चुदाई

“सही बात है।” नेहा ने समर्थन किया।

“देखो, मुझे नहीं लगता यह मुझसे चाहती है। इसे किसी और को ही दिखा लो।”

मैं घबराई। इतना करा लेने के बाद अब और किसके पास जाऊँगी। सुरेश चला गया तो अब किसका सहारा था?

“मेरा एक डॉक्टर दोस्त है। उसको बोल देता हूँ।” उसने परिस्थिति को और अपने पक्ष में मोड़ते हुए कहा।

मैं एकदम असहाय, पंखकटी चिड़िया की तरह छटपटा उठी। कहाँ जाऊँ? अन्दर रुलाई की तेज लहर उठी, मैंने उसे किसी तरह दबाया। अब तक नग्नता मेरी विवशता थी पर अब इससे आगे रोना-धोना अपमानजनक था।

मैं उठकर बैठ गई। केले का दबाव अन्दर महसूस हुआ। मैंने कहना चाहा,”तुम्हें क्या चाहिए?”

पर भावुकता की तीव्रता में मेरी आवाज भर्रा गई।

नेहा ने मुझे थपथपाकर ढांढस दिया और सुरेश को डाँटा,”तुम्हें दया नहीं आती?”

मुझे नेहा की हमदर्दी पर विश्वास नहीं हुआ। वह निश्चय ही मेरी दुर्दशा का आनन्द ले रही थी।

“मुझे ज्यादा कुछ नहीं चाहिए।”

“क्या लोगे?”

सुरेश ने कुछ क्षणों की प्रतीक्षा कराई और बात को नाटकीय बनाने के लिए ठहर ठहरकर स्पष्ट उच्चारण में कहा,”जो इज्जत इन्होंने केले को बख्शी है वह मुझे भी मिले।”

मेरी आँखों के आगे अंधेरा छा गया। अब क्या रहेगा मेरे पास? योनि का कौमार्य बचे रहने की एक जो आखिरी उम्मीद बनी हुई थी वह जाती रही। मेरे कानों में उसके शब्द सुनाई पड़े, “और वह मुझे प्यार और सहयोग से मिले, न कि अनिच्छा और जबरदस्ती से।”

पता नहीं क्यों मुझे सुरेश की अपेक्षा नेहा से घोर वितृष्णा हुई। इससे पहले कि वह मुझे कुछ कहती मैंने सुरेश को हामी भर दी।

यह कहानी भी पड़े  थ्रीसम का आनंद लिया

मुझे कुछ याद नहीं, उसके बाद क्या कैसे हुआ। मेरे कानों में शब्द असंबद्ध-से पड़ रहे थे जिनका सिलसिला जोड़ने की मुझमें ताकत नहीं थी। मैं समझने की क्षमता से दूर उनकी

हरकतों को किसी विचारशून्य गुड़िया की तरह देख रही थी, उनमें साथ दे रही थी। अब नंगापन एक छोटी सी बात थी, जिससे मैं काफी आगे निकल गई थी।

‘कैंची’, ‘रेजर’, ‘क्रीम’, ‘ऐसे करो’, ‘ऐसे पकड़ो’, ‘ये है’, ‘ये रहा’, ‘वहाँ बीच में’, ‘कितने गीले’, ‘सम्हाल के’, ‘लोशन’, ‘सपना-सा है’…………… वगैरह वगैरह स्त्री-पुरुष की

मिली-जुली आवाजें, मिले-जुले स्पर्श।

बस इतना समझ पाई थी कि वे दोनों बड़ी तालमेल और प्रसन्नता से काम कर रहे थे। मैं बीच बीच में मन में उठनेवाले प्रश्नों को ‘पूर्ण सहमति दी है’ के रोडरोलर के नीचे रौंदती चली गई। पूछा नहीं कि वे वैसा क्यों कर रहे थे, मुझे वहाँ पर मूँडने की क्या आवश्यकता थी।

लोशन के उपरांत की जलन के बाद ही मैंने देखा वहाँ क्या हुआ है। शंख की पीठ-सी उभरी गोरी चिकनी सतह ऊपर ट्यूब्लाइट की रोशनी में चमक रही थी। नेहा ने जब एक उजला टिशू पेपर मेरे होंठों के बीच दबाकर उसका गीलापन दिखाया तब मैंने समझा कि मैं किस स्तर तक गिर चुकी हूँ। एक अजीब सी गंध, मेरे बदन की, मेरी उत्तेजना की, एक नशा, आवेश, बदन में गर्मी का एहसास… बीच बीच में होश और सजगता के आते द्वीप।

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


ताई को पेशाब करते देखा सेक्सी स्टोरीबड़े लड़ से गैर मर्द से चुदाई कहानीvasana बहन का सेक्स कहनीमौसी का सेक्सलड़की की चुदाईमदमस्त अंगड़ाईवैशाली की चुदाई अन्तर्वासनादीवाली सेक्स स्टोरीचोदन डोट काम,विधवा भाभी की बुर फाड़ चुदाईमौसि के chakkar me maa ko chod diya sex ki sachi kahaniya.inGulabihoth chus ke chudai ki kahaniUsha ki bhabi ko ptakr choda storysardiyo me babuji se chudwayaठंडी रात को फूफा का लंड चूत लंड की कहानिया panchagani me biwi ki chudaiकच्ची उम्र मे शील तोड़ी स्टोरीसर्दी में सेक्स के मजेbewafa chachi ki kahaniबोल बोल नहीं बोलती कहानियां डॉट कॉमkalhe chut sax vxxx palai anty kahaneya hindeट्रेन में चुदाई कहानी garvati wifechutchudaiमेट्रो में मोटा लुंड गांड में लिया क्सक्सक्स सेक्स स्टोरीदीदी का पेशाब कहानीबहन पापा से सामूहिक छुड़ाईगंवार मुझे जिंदा senk gusana लड़कियों सेक्स codna hai टब 7Bua ki xxx chudai kahani hindibri didi ki phuli bur khaniऔरत की चूत चाटके सेक्स videoजबरदस्ती गांड़ की चुदाईकुवरी लङकी चिकने दूधसविता आंटी के किस्सेDelhi university girls hostel pati injay sex tau bahu anter vasnaMaire phuphi land ki pyasseमाँ के साथ शादी और सुहागरात मनाई सेक्स हिंदी कहानीबेटी की घमासान की चुदाई की कहानीसुवागरात की मजा की कहानियाँmose.boli.tera.land.cibrataरिश्ते की सेक्स कहानियांमाँ की सेक्सी कमर कहानी राज शर्मा Xxx.sex.ma.bheta.bavu.kahaniya.commasag palar vale kee antrvasnaठाकुर का खेत और उसकी बहु गंदी चुदाईमेरी चुदाईभाई मेरी चूत फाड़ेगा क्याKomal sex picमुस्लीम लडं से चुदाई कालेज कहानियांsex stories taeji ki gaand salwar k upr se mareantarvasna bua Hindiछोटी बहन के छोटे स्तनसेक्स स्टोरी भाभी ने कहा जोर से पेलो मेरे राजाchik nikal gaand faad indian sexsexfufaमैंने चुदवाई अपनी चूत tau ji seJebardasti saxy vi hindi kurti or pejami mmavshi sex hidistoriअकेले घर में पड़ोस की लड़की को बहाने Sex storyboor se pesab sex storieskya land chatvaba chaiyeraat ko sath main sona pda kamuak antarvasnasagi mameri Bhabhi ki chudaiलडकी चुतkampani me sil turvaiमा ने लिया बेटे का लन्ड न्यूड विडीयोराजा रानी की सील तोड़ी कहानी क्सक्सक्स कॉमट्रैन में पापा ने की चुदाईantarvasna.jhad gayi par nahi ruka dhakke lagata rahaशरीफ नौकरानी चुदाई की कहानियांभाभी को चुदते देखाHindi sex kahani taiमाँ बेटी चूची चूसी hindisexkahaniyantau bahu anter vasnaचुतद करनापत्नी की बुर मुँह में लंड चुदाईbidhwa..nokrani.didiबरसात में माँ को छोड़ा सेक्स स्टोरीचुदवाने वाली भाभीट्रेन में माँ की चुदाईरस भरी चुत