चाचीजान के बदन की गरमी

मेरा नाम इम्तियाज़ है। बात उन दिनों की है जब मेरी उम्र 19 साल की थी और मैं इंजीनियरिंग के पहले साल में बंगलौर में पढ़ रहा था। मैं बनारस का रहने वाला हूँ। मेरे एक्जाम समाप्त हो गए थे तो कुछ दिनों की छुट्टियों में घर आया था। हमारा संयुक्त परिवार है, मेरे परिवार के अलावा मेरे चाचा एवं चाची भी साथ में ही रहते थे। मेरे चाचा पेशे से सैनेटरी वेयर के थोक विक्रेता थे, उन्होंने काफी पैसा कमा रखा था। उनकी शादी को कई साल हो गए थे लेकिन अभी तक कोई संतान नहीं थी। चाची की उम्र 29 साल की थी, वो पास के ही एक गाँव की हैं ! थी तो देहाती पर मस्त चीज थी, उनकी जवानी पूरे शवाब पर थी, झक्क गोरा बदन और कंटीले नैन नक्श और गदराये बदन की मालकिन थी, चाचा चाची ऊपर की मंजिल में रहते थे।

जब चाचा दुकान और मेरे अब्बू अपने दफ्तर चले जाते थे तो मैं और चाची दिन भर ऊपर बैठ कर गप्पें हांका करते थे। चाची का नाम आरज़ू है। सच कहूँ तो वो मुझे अपना दोस्त मानती थी। वो मेरे सामने बड़े ही सहज भाव से रहती थी, अपने कपड़े भी मेरे सामने ठीक से नहीं पहनती थी, उनके वक्ष की आधी दरार हमेशा दिखती रहती थी, कभी कभी तो सेक्स की बात भी कर लेती थी। जब भी मुझे अकेली पाती थी तो हमेशा द्वीअर्थी बात बोलती थी, जैसे बछड़ा भी दूध देता है, तेरा डंडा कितना बड़ा है? तुझे स्पेशल दवा की जरुरत है, आदि !

दिन भर मेरे कालेज और बंगलौर के किस्से सुनती रहती थी।

जब मेरे बंगलौर जाने के कुछ शेष रह गए तो एक दिन चाची ने कहा- हम भी बंगलौर घूमने जाना चाहते हैं।

मैंने कहा- हाँ क्यों नहीं ! आप दोनों मेरे साथ ही इस शनिवार को चलिए, मैं आप दोनों को पूरी सैर करवा दूँगा।

यह कहानी भी पड़े  सपनों की मल्लिका

चाची ने अपनी इच्छा चाचा को बताई तो चाचा तुरंत मान गए। मैंने उसी समय इन्टरनेट से तीन टिकट एसी फर्स्ट क्लास में बुक करवा लिए। शनिवार को हमारी ट्रेन थी, शनिवार को सुबह हम तीनों ट्रेन से बंगलौर के लिए रवाना हुए। अगले दिन शाम सात बजे हम सभी बंगलौर पहुँच गए। मैंने उनको एक बढ़िया होटल में कमरा दिला दिया। उसके बाद मैं वापस अपने होस्टल आ गया। होस्टल आने पर पता चला कि कालेज के गैर शिक्षण कर्मचारी अपनी वेतनवृद्धि की मांग को लेकर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर जा रहे हैं और इस दौरान कालेज बंद रहेगा। मेरे अधिकाँश मित्रों को यह बात पता चल गई थी इसलिए सिर्फ 25-30 प्रतिशत छात्र ही कालेज आये थे।

मैं अगले दिन करीब 11 बजे अपने चाचा के कमरे पर गया, वहाँ वे दोनों नाश्ता कर रहे थे। चाची ने मेरे लिए भी नाश्ता लगा दिया। मैंने देखा कि चाचा कुछ परेशान हैं।

पूछने पर पता चला कि जिस कम्पनी का उन्होंने फ्रेंचाइजी ले रखा है उस कम्पनी ने दुबई में जबरदस्त सेल ऑफ़र किया है, अब चाचा की परेशानी यह थी कि अगर वो वापस चाची को बनारस छोड़ने जाते और वहाँ से दुबई जाते तो तब तक सेल समाप्त हो जाती और अगर साथ में लेकर दुबई जा नहीं सकते थे क्योंकि चाची का कोई पासपोर्ट वीजा था ही नहीं।

मैंने कहा- अगर आप दुबई जाना चाहते हैं तो आप चले जाएँ क्योंकि मेरा कालेज अभी एक सप्ताह बंद रह सकता है। मैं चाची को या तो बनारस पहुँचा दूँगा या फिर आपके वापस आने तक यहीं रहेगी। आप दुबई से यहाँ आ जाना और फिर घूम फिर कर चाची के साथ वापस बनारस चले जाना।

चाचा को मेरा सुझाव पसंद आया।

चाची ने भी कहा- हाँ जी, आप बेफिक्र हो कर जाइए और वापस यहीं आइयेगा। तब तक इम्तियाज़ मुझे बंगलौर घुमा देगा। आपके साथ मैं दोबारा घूम कर वापस आपके साथ ही बनारस जाऊँगी।

यह कहानी भी पड़े  The Twins – Part 1

चाचा को चाची का यह सुझाव भी पसंद आया।

लैपटॉप पर इन्टरनेट खोल कर देखा तो उसी दिन के दो बजे की फ्लाईट में सीट खाली थी। चाचा ने तुरंत सीट बुक की और हम तीनों एयरपोर्ट के लिए निकल पड़े। दो बजे चाचा की फ्लाईट ने दुबई की राह पकड़ी और मैंने एवं चाची ने बंगलौर बाज़ार की।

चाची के साथ लंच किया, घूमते घूमते हम मल्टीप्लेक्स आ गए। शाम के सात बज गए थे, चाची ने कहा- काफी महीनों से मल्टीप्लेक्स में सिनेमा नहीं देखा, आज देखूँगी।

मैंने देखा कि कोई नई पिक्चर आई थी, इसलिए सारी टिकट बिक चुकी थी। उसके किसी हाल में कोई एडल्ट टाइप की इंग्लिश पिक्चर की हिंदी वर्सन लगी हुई है, फिल्म चार सप्ताह से चल रही थी इसलिए अब उसमें कोई भीड़ नहीं थी।

मैंने दो टिकट सबसे कोने के लिए और हम हाल के अन्दर चले गए। मुझे सबसे ऊपर की कतार वाली सीट दी गई थी और उस पूरी कतार में दूसरा कोई भी नहीं था। हमारी कतार के पीछे सिर्फ दीवार थी, मैंने जानबूझ कर ऐसी सीट मांगी थी। मेरा आगे वाले तीन कतार के बाद कोने पर एक लड़का और लड़की अकेले थे, उस कतार में भी उसके अलावा कोई नहीं था। उससे अगली कतार में दूसरे कोने पर एक और जोड़ा था, इस तरह से उस समय 300 दर्शकों की क्षमता वाले हाल में सिर्फ 20-22 दर्शक रहे होंगे। पता नहीं इतने कम दर्शकों के लिए फिल्म क्यों लगा रखी थी।

Pages: 1 2 3 4 5 6

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


मेट्रो मे आंटी की चुदाईroleplay करके biwi ki chudaiएक घर की चुदाई कहानी – 1 • Hindi Sex storo part 7Antarvasna xxx didi Barsatantervasna khani ke sath ladki ne phone namber daleBua ki xxx chudai kahani hindiमोठी पुच्चीdaru ke nashe me chudai nonveg story.sexkahanisalwarantarvasna muh me mutnaनदी किनारे चूत पुकारेAntarvasnasexkahani.combhabhi kuchut aor land ki six video aor bateबहन के साथ पार्टी और सेक्सwww antarvasnasexstories com incest sasur bahu kamvasna chudai part 7सेक्स हिंदी stories sale ki biwiरंडी ka cum nikal gayaचूतpani me tierna sikhane ke bhane chodaदुस्त का बैहेन Sxc Videoचुद गई पापा की परीSaheb maza aa raha hai sexकाली।चूतवासनाsexhindikahaniburताऊ और माँ कि चुदाई खेत मेमेरी बहन का रंडीपन सेक्स कहानीkamwali ne malkin ke sath lesbian sex karna chahaChoot ka jhrana antravasanadady ne mujhe 11ench ke land se choda stori and stori .comhttps://buyprednisone.ru/maried-aunty-ki-antarvasna-sex/Samuhik chudai m huva bura haalभाभी ने चुत मारना सिखायाanterwaanabehan ki nukili chuchiKulfi ki jagah lund chusayaभाभीचुत मे लाँडठंडी मे दोसत की बीवी की चोदाई की कहानीमालती की चुदाई की कहानीमाँ को बेटा का इन्तजार चुदाई काhttps://buyprednisone.ru/fuferi-behen-ki-seal-todi-13/3/चूतचूत गाङ चुदाई की कहानियाKachchi kali ko khilaya pornशहरी भाभी की चुदाई कथालड़कियों की चूत की चुदाईsexkhaniya hindi rishto mainचोदनरिश्ते की सेक्स कहानियांbaju vali ki malkin x kahaniusha chudae khet meबाप के साथ सुहागरात मनाईमॉ के कहने पर दीदी कोटूशन टीचर को बारिश म छोड़ाजाति लडकी कि खेत मे चुदाईXxx Sex sister gajar Muli ke sath Chut Chudai full HD videoThandi me Bua ki chudai storiesभाभी नंनद सेकस कहानी चुत कीsagi mameri Bhabhi ki chudaiमाँ को नंगा नहाते देखा बीटा हिंदी कहानीbadle me chudai ho rahi kahaniतिन्ना मौसी सेक्स स्टोरीMom ke saath kitchan mein chudai ki part 1मेरी बहन को दोस्त में रखेल बनायाहिंदी सेक्सी कहानियाँbehan ka gangbang birthday sex storyमै किसी के प्यार मैं फंस गई और उसने की मेरी गैंगबैंग चुदाईमेरी गांड भी बहुत ही बुरी तरह से मारता थाThandi me Bua ki chudai storiesठंडी मे दोसत की बीवी की चोदाई की कहानीkachhi kaliyo chudai ki nayi kahaniyaमेरी चाहत, मेरी फ़ुफ़ेरी बहन की शादी में part 2chachara bhai say chodaiGosiya mast sex hdदीदी का पेशाब कहानी