चाचीजान के बदन की गरमी

मेरा नाम इम्तियाज़ है। बात उन दिनों की है जब मेरी उम्र 19 साल की थी और मैं इंजीनियरिंग के पहले साल में बंगलौर में पढ़ रहा था। मैं बनारस का रहने वाला हूँ। मेरे एक्जाम समाप्त हो गए थे तो कुछ दिनों की छुट्टियों में घर आया था। हमारा संयुक्त परिवार है, मेरे परिवार के अलावा मेरे चाचा एवं चाची भी साथ में ही रहते थे। मेरे चाचा पेशे से सैनेटरी वेयर के थोक विक्रेता थे, उन्होंने काफी पैसा कमा रखा था। उनकी शादी को कई साल हो गए थे लेकिन अभी तक कोई संतान नहीं थी। चाची की उम्र 29 साल की थी, वो पास के ही एक गाँव की हैं ! थी तो देहाती पर मस्त चीज थी, उनकी जवानी पूरे शवाब पर थी, झक्क गोरा बदन और कंटीले नैन नक्श और गदराये बदन की मालकिन थी, चाचा चाची ऊपर की मंजिल में रहते थे।

जब चाचा दुकान और मेरे अब्बू अपने दफ्तर चले जाते थे तो मैं और चाची दिन भर ऊपर बैठ कर गप्पें हांका करते थे। चाची का नाम आरज़ू है। सच कहूँ तो वो मुझे अपना दोस्त मानती थी। वो मेरे सामने बड़े ही सहज भाव से रहती थी, अपने कपड़े भी मेरे सामने ठीक से नहीं पहनती थी, उनके वक्ष की आधी दरार हमेशा दिखती रहती थी, कभी कभी तो सेक्स की बात भी कर लेती थी। जब भी मुझे अकेली पाती थी तो हमेशा द्वीअर्थी बात बोलती थी, जैसे बछड़ा भी दूध देता है, तेरा डंडा कितना बड़ा है? तुझे स्पेशल दवा की जरुरत है, आदि !

दिन भर मेरे कालेज और बंगलौर के किस्से सुनती रहती थी।

जब मेरे बंगलौर जाने के कुछ शेष रह गए तो एक दिन चाची ने कहा- हम भी बंगलौर घूमने जाना चाहते हैं।

मैंने कहा- हाँ क्यों नहीं ! आप दोनों मेरे साथ ही इस शनिवार को चलिए, मैं आप दोनों को पूरी सैर करवा दूँगा।

यह कहानी भी पड़े  सपनों की मल्लिका

चाची ने अपनी इच्छा चाचा को बताई तो चाचा तुरंत मान गए। मैंने उसी समय इन्टरनेट से तीन टिकट एसी फर्स्ट क्लास में बुक करवा लिए। शनिवार को हमारी ट्रेन थी, शनिवार को सुबह हम तीनों ट्रेन से बंगलौर के लिए रवाना हुए। अगले दिन शाम सात बजे हम सभी बंगलौर पहुँच गए। मैंने उनको एक बढ़िया होटल में कमरा दिला दिया। उसके बाद मैं वापस अपने होस्टल आ गया। होस्टल आने पर पता चला कि कालेज के गैर शिक्षण कर्मचारी अपनी वेतनवृद्धि की मांग को लेकर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर जा रहे हैं और इस दौरान कालेज बंद रहेगा। मेरे अधिकाँश मित्रों को यह बात पता चल गई थी इसलिए सिर्फ 25-30 प्रतिशत छात्र ही कालेज आये थे।

मैं अगले दिन करीब 11 बजे अपने चाचा के कमरे पर गया, वहाँ वे दोनों नाश्ता कर रहे थे। चाची ने मेरे लिए भी नाश्ता लगा दिया। मैंने देखा कि चाचा कुछ परेशान हैं।

पूछने पर पता चला कि जिस कम्पनी का उन्होंने फ्रेंचाइजी ले रखा है उस कम्पनी ने दुबई में जबरदस्त सेल ऑफ़र किया है, अब चाचा की परेशानी यह थी कि अगर वो वापस चाची को बनारस छोड़ने जाते और वहाँ से दुबई जाते तो तब तक सेल समाप्त हो जाती और अगर साथ में लेकर दुबई जा नहीं सकते थे क्योंकि चाची का कोई पासपोर्ट वीजा था ही नहीं।

मैंने कहा- अगर आप दुबई जाना चाहते हैं तो आप चले जाएँ क्योंकि मेरा कालेज अभी एक सप्ताह बंद रह सकता है। मैं चाची को या तो बनारस पहुँचा दूँगा या फिर आपके वापस आने तक यहीं रहेगी। आप दुबई से यहाँ आ जाना और फिर घूम फिर कर चाची के साथ वापस बनारस चले जाना।

चाचा को मेरा सुझाव पसंद आया।

चाची ने भी कहा- हाँ जी, आप बेफिक्र हो कर जाइए और वापस यहीं आइयेगा। तब तक इम्तियाज़ मुझे बंगलौर घुमा देगा। आपके साथ मैं दोबारा घूम कर वापस आपके साथ ही बनारस जाऊँगी।

यह कहानी भी पड़े  The Twins – Part 1

चाचा को चाची का यह सुझाव भी पसंद आया।

लैपटॉप पर इन्टरनेट खोल कर देखा तो उसी दिन के दो बजे की फ्लाईट में सीट खाली थी। चाचा ने तुरंत सीट बुक की और हम तीनों एयरपोर्ट के लिए निकल पड़े। दो बजे चाचा की फ्लाईट ने दुबई की राह पकड़ी और मैंने एवं चाची ने बंगलौर बाज़ार की।

चाची के साथ लंच किया, घूमते घूमते हम मल्टीप्लेक्स आ गए। शाम के सात बज गए थे, चाची ने कहा- काफी महीनों से मल्टीप्लेक्स में सिनेमा नहीं देखा, आज देखूँगी।

मैंने देखा कि कोई नई पिक्चर आई थी, इसलिए सारी टिकट बिक चुकी थी। उसके किसी हाल में कोई एडल्ट टाइप की इंग्लिश पिक्चर की हिंदी वर्सन लगी हुई है, फिल्म चार सप्ताह से चल रही थी इसलिए अब उसमें कोई भीड़ नहीं थी।

मैंने दो टिकट सबसे कोने के लिए और हम हाल के अन्दर चले गए। मुझे सबसे ऊपर की कतार वाली सीट दी गई थी और उस पूरी कतार में दूसरा कोई भी नहीं था। हमारी कतार के पीछे सिर्फ दीवार थी, मैंने जानबूझ कर ऐसी सीट मांगी थी। मेरा आगे वाले तीन कतार के बाद कोने पर एक लड़का और लड़की अकेले थे, उस कतार में भी उसके अलावा कोई नहीं था। उससे अगली कतार में दूसरे कोने पर एक और जोड़ा था, इस तरह से उस समय 300 दर्शकों की क्षमता वाले हाल में सिर्फ 20-22 दर्शक रहे होंगे। पता नहीं इतने कम दर्शकों के लिए फिल्म क्यों लगा रखी थी।

Pages: 1 2 3 4 5 6

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


khushnuma ki chut or gand hindi sex kahaniचाचा भतीजी चुदाई पैँटीguda methun antarvasnaसील पैक चूत की चुदाई स्टोरीबीवी बनी छिनाल सेक्स स्टोरीदीदी के सत रुओं में छोड़ाए किये हिंदी सेक्स स्टोरीBhavichutmere stress ko brte ne mitaaya chudai storyअन्तर्वासनातीन मोटे लंड ममी कि अकेली चुत कहानीmetro me aunty ki gund par lund ghisaबेटे ने मौसी और माँ का गाँड मारापोर्न वीडियोस हिंदी बेथ पापा बोलते होsaree utarne ke bad xxnxबहु ओर ससुर की रास लीला se.comJabanladki ko jabarjasti lund chusa ke chodaSexkahani samast familychuta kd lrki xxxXxx sotary mom teranMummy k8 chudai watsaap ka karan sex storyआवारा लडके ने मुझे चोदा कहानिया लडकी ने पति के बदले ससुर के साथ सुहागरात मनायाचुदाई की कहानि जवान लडकी व रिश्तोंमेअचा चुतmammi ko choda Aankl ne mere samne Khet me Hindi Antrwasna comkamukta hindi buaहिंदी परिवार सेक्स स्टोरीजgaliya deke chudi sex storymai apani maa ki gand ka divanahot sex kahani pyar bhara pariwar me baleckmel kiyamajor sahb deenu pani kitchenमेट्रो chudai xx video.comusne chudwakar chut dilwaiपरिवार मेँ माँ पापा भाई बहिन की एकसाथ चूदाई की कहानियाँantarvasna samdhi jixxx vidioसबके सामने कियासेक्सी स्टोरी हिंदी दादाजी ने छोड़ाऔरतों का चूतbubs dbane me kisko mja aata hDesi hindi bade doodh waali aunty ko bus me choda hindi kaamuk storyतन मन सेक्स की गंदी स्टोरीantarvasana ushakimasag palar vale kee antrvasnaसेक्स स्टोरी हिंदी ब्लैक ब्रा पहनती हूँantarvasna bua Hindipati patni ki swapping storykamukta hindi buasar.padhani.ayi.teusan.ladhake.ki.sath.sex.keya.vediobewafa chachi ki kahaniदोस्त के मम्मी की मस्त चुदाईAntarvasna incestमित्र आणि मम्मी marathi sex storyचुदाई रोल प्ले स्टोरीmama bhanji ke pyare anterwaanachachara bhai say chodaiहिंदी सेक्सी कहानियाँअब डालो न सेक्स हिंदी कहानीखेत केघर में चुदाई कहानियाँमोटे लंड से चुदाई की कहानियांचूतफुला चुतDelhi metro chudai story antarwanaसलवार का नाड़ा खींच लिया सेक्स कहानियांLatest mosi bhua ki sath kamukata par hindi sexey kahaniya 2019 kiसेक्स कहानियाँ बहन की मद्द से भाबी को चोदा तो चुत फट गयीलंडमाँ की गांड को अपनी जीभ से चाटchorni ki hindi sex khaniyaपापा और उनके दोस्तो के साथ सामूहिक छुड़ाईbhuva ki beti hindisex.inजाआअचुत नंगी लंड डलवातेलङकियो के साथ सेक्स करने की कहानीHindi sexi kahaniya bhai bahen ki adla badli jija k sathमामी ने भांजे से चुदवाया सेक्स कहनिया चुदाई सफर मेंSex satory mom 2018hindibeti rozana chudaiचुदाई की प्यासी मेरी बहनानदी के किनारे नोकर और ड्राईवर ने चोदा part 2Grop antrwasnaThandi me Bua ki chudai storiesजवान बेटी को चोदना सिखायाjawanladkichootअंधे से hindi sex storiesXxx sotary mom teranपापा ने मुझे लंड का मजा चखायामेरा 12 इंच का लण्दसाड़ी उठा कर चुड़ै सेक्स स्टोरीजfarhin ki waterpark me chudai kahaniबुआ की चुदाईहिंदी सेक्से दीदी की मोठे मोठे गण्डland chut ki nipal dabata hindi storybeta dard ho reha hi hindi sex khaniyaसफर मे चुदाई की अंतरवासनाआज तुम्हारे बुर का स्वाद चखा antervasna khani ke sath ladki ne phone namber daleममी पापा कि समुहिक चुदाइ