भाभी की बेबसी और मेरा प्यार

भाभी जान के भारी भरकम चूतडों को देख कर मन हुआ की पीछे से जाकर उनकी मोटी गांड में लंड पेल दूँ पर लाचार था. कुछ देर की लंड चुसाई से भाई जान के लंड में जान आई तो उन्होंने शकीना भाभी को उठा कर पलंग के ऊपर पीठ के बाल लेटा कर उनकी बुर में अपना लंड डाल कर अन्दर बहार करने लगे पर यह क्या ४-५ धक्को के बाद वो उठ गए मुझे लगा की वो झड़ गए होंगे पर नहीं क्यों की उनके लंड में अभी भी तनाव बरक़रार था उन्होंने शकीना भाभी से कुछ कहा तो शकीना भाभी पेट के बल लेट गयी रहमान भाई ने तेल की शीशी उठा कर अपने लंड को तेल से सरोबर करके शकीना भाभी की गांड के छेद पर भी तेल लगा कर चिक्नायुक्त करके अपने लंड के सुपाडे को गांड की छेद पर टिका कर धीरे धीरे गांड में घुसाने लगे. शकीना भाभी के चेहरे पर दर्द का नमो निशान नहीं था यानि की उनकी गांड अपने शोहर के लंड की साइज़ से वाकिफ हो चुकी थी पर यह क्या ५-६ धक्को में ही रहमान भाई का शरिर अकड़ने लगा और पसीने से तर बतर हो कर लम्बी लम्बी सांसे लेते हूए उन्होंने अपना पतला वीर्य शकीना भाभी की चूतडों पर गिरा कर हाफ्ते हूए लेट गए. बिचारी शकीना सिर्फ अपने तन की प्यास की परवाह ना करते हूए बेबस हो कर उनके हुकुम का पालन करते हूए बिन पानी के तड़पती हुई मछली के समान लेट गयी.

मैं भी अपने कमरे में आकर हस्तमैथुन कर के नींद के आगोश में समा गया अब मैं शकीना भाभी के बारे में सोचने लगा बिचारी भाभी का भी चुदवाने का मन तो करता होगा पर उम्र दराज पति के प्रभावहिन पतले लंड के कारण मन मसोस के रह जाती होगी उंगली से चुत को शांत करने के अलावा शकीना भाभी के पास कोई उपाय भी नहीं था समाज के कारण किसी पराये मर्द से भी नहीं चुदवा सकती थी क्यों की उसमे बदनामी का डर रहता हैं बेचारी पूर्णतया बेबस मजबूर अबला नारी थी. मुझे उस पर अब तरस आने लगा था रहमान भाई की अनुपस्थिति में शकीना भाभी मुझसे ढेर सारी बातें करती थी मैं आज तक स्पष्ट रूप से चूंकि चुत का दीदार नहीं कर सका क्यों की दरवाजे के छेद से केवल शकीना भाभी को बुर सहलाते हूए देखा था पर सौभाग्य से ४ दिन बाद ही मुझे उनके चुत के मनभावक दर्शन हो गए उसदिन मैं सुबह जल्दी उठ गया था रहमान भाई नाश्ता कर रहे थे जब वो दफ्तर के लिए निकले तो मैं नहाकर हॉल में बैठ कर अख़बार पड़ने लगा इतने में शकीना भाभी अपने कमरे से निकाल कर नहाने बाथ रूम में चली गयी तो मेरे दिमाग में शैतानी कीड़े रेंगने लगे मैं उठ कर बाथ रूम के दरवाजे की चिरी से झांक कर देखा तो मेरा लंड राज फुंकारने लगा क्योंकि अन्दर का नजारा ही गजब का था शकीना भाभी दरवाजे की ओर मुह कर के मूत रही थी उनकी मोटी मोटी गौरी गौरी पैरों की पिंडलियाँ देख कर मैं उतेजित हो चूका था दोनों टांगो के बिच फूली हुई चूत की दोनों फांकें, उनके बीच का कटाव में से चूत के बड़े बड़े होंठों के बिच से निकलती मूत की धार साफ़ नज़र आ रहे थे, मुझे मुस्किल से १ मिनट तक चुत के साफ़ साफ़ दर्शन हूए गौरी गौरी मांसल जांघों के बीच में घना जंगल और उस जंगल से झांकती फूली हुई बादामी रंग के फानको के बिच गुलाबी चुत का कटाव ऊऊफ़्फ़्फ़ गजब का नजारा था मूत कर भाभी जान नहाने लगी और मैं वहीँ खड़ा होकर मुठ मारने लगा क्योंकि इसके अलावा कोई चारा नहीं था. फिर मैं अपने स्थान पर आकर अख़बार पड़ने लगा करीब २०-२५ मिनट के बाद भाभी सलवार कमीज पहन कर मेरे बगल में बैठ गयी और हम दोनों नाश्ता करने लगे.

यह कहानी भी पड़े  राज और उसकी पड़ोसी सेक्स कहानी 2

मेरे दिमाग में तो बस हर समय उनकी चुत की झलक घूमने लगी थी. प्यारे पाठको को यह बता दू की मैंने १८ साल की लड़की से लेकर ४८ साल की औरतों को चोदा हूँ (अब तक ८-९ जानो को चोदा हूँ जिस में १८ साल की नौकरानी को छोड़ कर सब मेरे किराये दार थे) अगर चुदाई के शौक़ीन वालो को चुदाई का असली मजा लेना हो तो परिपक्व व प्यासी औरतों को चोदना चाहिए हालाँकि उनलोगों की चुत कमसिन की अपक्षा कसी नहीं होती हैं पर परिपक्व होने के कारण उनके पास अनुभव होता हैं और ऊपर से जब वो प्यासी नारी हो तो चुदाई में खूब साथ देती हैं जिस से दोनों को अति आनंद मिलता हैं जिसका वर्णन करना मुश्किल हैं. अब तो हर दिन मैं इसी उधेड़ बुन में रहा की शकीना भाभी को चारा डालूं ताकी वे चुदवाने राजी हो जाये.इश्वर ने एक दिन मेरी सुन ली, और मुझे सुनेहरा मोका दिया मैंने सोचा पप्पू बेटा इस मोके का अगर तुम फायदा नहीं उठा सके तो शकीना भाभी को कभी भी नहीं चोद पाओगे इसलिए मैंने मन ही मन प्लानिंग करने लगा. हुआ यूँ की रहमान भाई जान को दफ्तर के सिलसिले में गुरुवार की सुबह ७ बजे की फ्लाईट से दुसरे शहर जाना था और शुक्रवार की रात को लौटने वाले थे उनकी अनुपस्थिति का मुझे फायदा उठाना था मैंने गुरुवार को सुबह रहमान भाई को एयर पोर्ट छोड़ कर घर पहुँच कर अपनी चाबी से दरवाजा खोल कर रसोई में गया वहां शकीना भाभी नहीं थी ना ही अपने कमरे में थी शायद वो नहा रही होगी इसलिए इन्तेजार करते करते मैं अख़बार पड़ने लगा.

यह कहानी भी पड़े  छीनाल बेहेन की चुदाई नौकर ने की

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


antrwasna alwarpuaabe.phoh.lav.storeMere parivar ke kachche aam sex storyChoti behan nimboo chuchi Bur Virya landChotibahankichudai.comaafreen bhabi ki chudai storys part 2अन्तर्वासनाmai nahi jhel paugi itna lumba.chudaigandchodaibhabhiहिंदी सेक्से दीदी का मोटा जिस्मSexy modern skirt mausi sexy kahani hindiबुरनशीली चूतबीवी थी गैर मर्द के बाहों में chudaimere stan ki phuli hui tight golai hindi sex storyचाचा भतीजी चुदाई पैँटीचुत मे लंडइंडियन मम्मी बेटा की chudae गाँव में कहानी हिन्दी मेंरंगीली बहनों की चूत चुदाई का मज़ाchod kar behos kar diya xxxbfhavili antarvasnasexhindikahaniburसेक्सी लंड बुर की चुदाईchutaroki wasnabuyprednisone.ru suhagratJabanladki ko jabarjasti lund chusa ke chodaBibi ki garm saheli Ko bade lund se choda hindi kahani antrvasnaजैसे चूत फट जाएगीपरिवार,कि,चुत,चुदाओटेबल पर बहु की चुदाई की कहानीचूत की फांकेंनैन्सी भाभी की सेक्सी कहानीमेरे बेटे ने पेटीकोट उठाकर चोदाanyar vashna mamu bhanjiMare seal pack chut s khun nekla sexy storie in hindiसंकरी चुतtaai ki chudaai ki kahaaniकरवा चौथ पे usha chachi chudai ki khaniवैशाली की चुदाई अन्तर्वासनाHindi sexy stori ma Bhan bhanji brsat ma srdi meSaheb maza aa raha hai sexantar.wasna.dot.com.sax.stworisex stories bhua ki papa ke sathसलवार चुदाई कथाkachhi kaliyo chudai ki nayi kahaniyaBhu sasur porn padhe hindiबहन ने राखी लुंड पर बढ़नीउई माँ मर गई चुदाई videoसरारती आंटी की कहानीdase aap bite sex odio estoreKachikali se phool bani sex kahani in xossip आँखों से कोसों दूर थी। अचानक अरूण ने मेरी ओर करवट ली और बोले, “पानी दोगी क्या, प्यास लगी है !” मैं उठी और अरूण के लिये पानी लेने चली गई। वापस आई तो अरूण जग चुके थे और मेरे हाथ से पानी लेकर पीने के बाद मुझे खींचकर फिर से अपने पास बैठा लिया और अपना सिर मेरी गोदी में रखकर लेट गये। मैं उनके बालों को सहलाने लगी, मैंने देखा उनका लिंग मूर्छा से बाहर आने लगा था उसमें हल्की हलकोमल और बाप की चुदाईबीबी और उसकी सहेली की चुदाई की स्टोरीजभाभी को बीसतार पर लेटा कार देवर ने मारी गाडलंड बिल में घुस जाता कहानीचुदाइ किकहानिwww.damad ne choda sas ko sex stori hindi meसेक्सी लंड बुर की चुदाईसिगरेट दारू लांबी चुदाई कथासंकरी चुतचुदाई की बातestoure cudaikeप्यार मैं फंसा कर की मेरी गैंगबैंग चुदाईसील पैक चूत की चुदाई स्टोरीभुआ की चुदाईआआआआहह।मधुर कानी सेक्सी स्टोरी मधुर कहानीसगीता मनोज की चोदाईट्रेन मे माँ की चुदाई