Bajuwali ki Biwi ki Chudai Sex Kahani

हिस्सेदार की बीवी की चुदाई – Antarvasna Sex Kahani

Bajuwali ki Biwi ki Chudai Sex Kahani

मैं अपना परिचय दे दूँ, मेरा नाम गौरव गुप्ता है, उम्र 30 साल, कद 5′ 5″, रंग गोरा और बदन गठीला है और अभी तक मैं कुँवारा हूँ। मैं लखनऊ में एक कंप्यूटर सेन्टर चलाता हूँ, जिसमें मैं और मेरा एक हिस्सेदार है। कंप्यूटर सेन्टर हिस्सेदार के घर के एक कमरे में चलता है। उस कमरे का एक दरवाज़ा हिस्सेदार के घर के अन्दर खुलता है। मैं अक्सर कंप्यूटर सेन्टर चलाता हूँ और हिस्सेदार बाहर के काम निपटाता है। हिस्सेदार के घर में उसकी पत्नी सीमा, उम्र लगभग 26 साल, कद 5′ 2″, रंग गोरा और भरे-पूरे बदन की मालकिन अकेली ही रहती थी। वो हालांकि मुझे छोटी थी पर फिर भी मैं उसको भाभी जी ही बुलाता था। खाली समय में हम दोनों खूब लम्बी बातें किया करते थे।

एक बार मेरा हिस्सेदार किसी काम के सिलसले में जयपुर गया था 4-5 दिनों के लिए। इसलिए सेन्टर का सारा काम मुझे संभालना पड़ रहा था। हफ्ते के 6 दिन तो बच्चो को ट्रेनिंग देने में ही निकल जाते और इतवार को मुझे दफ़्तरी काम निपटाना होता था।

उस दिन भी मैं सेन्टर में कंप्यूटर पर बैठा अपना जरूरी काम कर रहा था, चपरासी को भी जल्दी थी तो मैंने उससे सेन्टर का मुख्य-द्वार बंद करके चले जाने को कहा। मैंने सोचा सेंटर का गेट बंद होने बाद मैं अन्दर बैठ कर अपना काम शांति से कर सकूँगा और फिर हिस्सेदार के घर वाले दरवाज़े की तरफ से बाहर चला जाऊंगा। तो मैंने जाने को कह दिया। उसने ऐसा ही किया और वो चला गया। अब मैं सेन्टर के अन्दर बिलकुल अकेला था।

काफी देर काम करने के बाद जब मैं अपना काम कम्प्यूटर में सेव कर रहा था तभी मेरी नजर कंप्यूटर में सेव की हुई एक मूवी पर पड़ी जो शायद किसी टीचर ने या फिर मेरे हिस्सेदार ने लोड कर दी थी। वो एक ब्लू फिल्म थी। मैं काम करके काफी थका हुआ था तो कुछ मस्ती करने के मूड में मैंने वो फिल्म चालू कर दी चूँकि मैं सेन्टर में अकेला था इसलिये मुझे कोई डर भी नहीं था। फिल्म देखते देखते मेरा 8″ का लण्ड पैंट के अन्दर तम्बू बन कर खड़ा हो गया। मुझे काफी गर्मी लग रही थी तो मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए। अब मैं सेन्टर में बिलकुल नंगा होकर ब्लू फिल्म देखते हुए मुठ मार रहा था।

तभी पीछे से एक खट की आवाज ने मेरी तेज़ होती सांसों को ब्रेक लगाने पर मजबूर कर दिया। मैंने पलट कर देखा तो अन्दर के दरवाज़े पर सीमा भाभी चाय का प्याला लिए खड़ी थी। उन्हें अचानक देख कर मेरे होश उड़ गए। मेरे पास इतना समय नहीं था कि मैं कपड़ों से अपने तन को छुपा सकता। मैं उनके सामने एक दम नंगा खड़ा था, मेरी गले की आवाज गायब सी हो गई थी। मैंने हकलाते हुए पूछा- सीमा भाभी, आप इस समय ?

यह कहानी भी पड़े  एक घरेलू बीवी की कामुकता

भाभी ने भी कुछ नहीं कहा, लेकिन मेरे बड़े लण्ड को 2-3 मिनट तक देखते रही फिर बोली- देवर जी, यह आप क्या कर रहे थे? मैं तो आपको एक अच्छा आदमी समझती थी पर आप अपने दोस्त की गैर मौजूदगी में यह सब?

मैं डर गया और बोला- भाभी मुझे माफ़ कर दो।

सीमा भाभी पहले कुछ नहीं बोली फिर मेरे 8″ लण्ड को हाथ में लेकर बोली- एक शर्त पर मैं तुम्हे माफ़ कर सकती हूँ कि जो कुछ इस फिल्म में चल रहा है वो सब तुम्हें मेरे साथ भी करना पड़ेगा।

वैसे तो मैं कई बार सीमा भाभी की अंगों को दूर से निहार चूका हूँ पर आज सीमा भाभी खुद मुझसे चुदाने को तैयार थी, यह सोच कर मेरे रोंगटे खड़े हो गए। आज तक मैंने उन्हें कभी नंगा नहीं देखा था। आज मेरा सबसे हसीन सपना पूरा होने जा रहा था।

मैंने उसके होंठों पे अपने होंठ कस के दबा दिये। 15 मिनट तक वो मेरे और मैं उसके होंठ चूसता रहा। होंठों के बाद वो मुझे सब जगह पर चूमने लगी, गाल छाती और सब जगह। मैं भी उसके गालों को चूसने लगा। चूस चूस के उसके गोरे गाल मैंने लाल कर दिये।

अब तो वो बहुत गर्म हो गई थी मगर वो अब भी कपड़ो में थी और मैंने उसके कपड़े निकालने शुरू कर दिये। धीरे से उनकी साड़ी खींच कर अलग कर दी और उनके मम्मे दबाते हुए ब्लाउज के हुक खोल दिए, पेटीकोट का नाड़ा खोल के पेटीकोट नीचे खिसका दिया। अब वो सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में थी। मैं सफ़ेद ब्रा में उसके बड़े बड़े मम्मे देख के पागल हो गया।

वो बोली- गौरव, जब से तुम्हें अपना यह बड़ा लण्ड हिलाते देखा है, मैं तो इसके लिये पागल सी हो गई हूँ, अब मुझे और ना तड़पाओ !

मैंने तुरंत उसकी ब्रा निकाल दी, उसके गोरे गोरे कबूतर आज़ाद होकर बाहर निकल आये। मैंने धीरे से उस की पैंटी नीचे खिसका दी अब हम दोनों पूरी तरह नंगे खड़े थे। वो मेरा पूरा नंगा लण्ड देख कर जो कि अब 8″ से बड़ा हो गया था, अपने आप को कंट्रोल नहीं कर पा रही थी। उसने उसे अपने हाथों से हिलाना शुरु किया और बोली- तुम्हारा तो तुम्हारे दोस्त यानि मेरे पति से काफ़ी बड़ा है, इसलिये मैं तुम्हें कहती थी कि तुम्हारी कोई गर्ल फ्रेंड नहीं है क्या?? मेरे भोले गौरव जी लड़कियों को ऐसे बड़े लण्ड वाले लड़के बहुत पसंद होते हैं !

यह कहानी भी पड़े  गैर मर्द से चूत की चुदाई हुई

वो मेरे लण्ड के साथ खेल रही थी। अब उसने मेरा लण्ड अपने मुँह में ले लिया। मेरा लण्ड पहली बार किसी छेद में जा रहा था। मेरे लण्ड को गुदगुदी सी हो रही थी। मैं जैसे स्वर्ग में था।

उसने मेरा लण्ड पूरा अपने मुंह में ले लिया। क्योंकि यह मेरा पहली बार था, मैं ज्यादा देर नहीं टिक पाया, 5 मिनट के बाद मैने उसे कहा- मैं छूटने जा रहा हूँ !

उसने कहा- मुंह के अंदर ही छोड़ देना !

मैने बड़े जोर के साथ अपना वीर्य उसके मुंह में निकाल दिया और उसने वो पूरा निगल भी लिया। अब छूटने की वजह से मेरा लण्ड फ़िर अपने सामान्य आकार में आ गया। तब भाभी और मैं बाथरूम में सफ़ाई के लिये चले गये। वहाँ वो तो और सेक्सी बातें करने लगी। लगता है अब तक उसकी गर्मी ठंडी नहीं हुई थी।

उसने कहा- मेरे पति का लण्ड तुमसे बहुत छोटा है, और वो मुझे इतना प्यार भी नहीं करते, वो यहाँ नहीं थे तो मैं सेक्स के लिये बहुत पागल हुए जा रही थी, मुझे तुम अपनी बीवी समझना और जब जी चाहे तब चोदना। ये भाभी आज से तेरी है।

और उसने मुझे फिर चूमना शुरु किया। हम एक दूसरे को फिर चूसते रहे, चूमते रहे।

मैने उसे कहा- भाभी, देवर को दूधू पिलाओ !

उसने कहा- पूछो मत ! ये दूध और दूधवाली सब आप ही के लिये हैं ! जितना दूध पीना है पी लो !

और मै बिना रुके उसके 36 डी साइज़ के सेक्सी स्तन दबाने लगा, उन्हें ज़ोरो से चूसने लगा।

वो चीखने लगी- चूसो और ज़ोरों से, पी जाओ सारा, गौरव आआआआअ आईईइ ईइ अ दूध ऊऊऊह ह्हह्हा आऐइ ईई ईई……ऊऊ ऊऊओ ऊऊओ ऊओ ऊ…आ आआअ आ आअ।

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


nepali bhabhi ki cudai ki kheta me sex kahaniमैं और मेरी कमीनी फैमिली • Hindi Sex Stories - Part 12018की भाभी की बस के सफर मे चुकाई की कहानियाmammi ko choda Aankl ne mere samne Khet me Hindi Antrwasna comantarvasna केवल माँ और हिंदी में samdhi सेक्स कहानियाँऋतु पर खुला चुदाईchacheri behan ko kapde badalte dekha baad mai chudai ki sexy storyबेटी के साथ सेक्समेरे नंगे लंड की मालिश कहानीविधवा मैडम को चोदामाँ ने मौसी को मुझसे चूदाईdildo ko chut me liya aagअन्तर्वासना सेक्सी सफर कहनिया ट्रैन मईउसने मेरी बीवी की चूत देख ली थीआयशा की गांड चुदाईdudhihindi hindisex videoसेक्स stories बाथरूम में माँ ko नाहटा dikhaगंवार मुझे जिंदा senk gusana लड़कियों सेक्स codna hai टब 7चुतकी झलक Hindi sex storiesकमला की चुदासी अमर भैया सेbahnkr.jag.cudai.kahnyaबहु ने हेंड जॉब की रात में ससुर जी कीनशा सेक्स रण्डी रखैल कहानियांदीदी पापा की दोरुत से चूदाई रात दिनबबली भाबी कि मजेदार चुदाई लिखि हुईbhai bahan ki rajai me chudai xxx hindi storysexsstori.comchudai seksiमेरी बहन मेरे साथ सो रही थी मैंने उसके बूब दबाये सेक्स स्टोरी हिंदीलुंड धीरे से चुत में सरक गयाभाई ने छूट की ओपनिंग कीsareef larki sexy KahaniPhim sex nhanh địt nhau như ăn cướpचुदाई कहानी कामवालीUsha ki chudai ki story hindi meगांड मारने की कहानियामेरे लण्ड के स्पर्श का अहसासएक दूजे के लिए सेक्स कहानीदोस्त की माँ को चोदाबाबा के चुदाईचुत ताई कीसाया उठा कर चाँदनी रात मे चुदवाईपापा ने मुझे लंड का मजा चखायाxxx history badi maa aur badi dediबीवी बनी छिनाल सेक्स स्टोरीचूचे कि चूदाईXxxnnxxx मम्मी के सामनेलड़की की चूतsabna mel kar codamere pindliyo ko choomne lagaदीदी के देवर से चुदाईBhabhi ne sex karna sikhaya antarvasna sex kahani hindi story hindi सेक्सी विक्रेता हिंदी कहानीअपने से आधी उम्र की से सेक्स स्टोरीजबहन ने राखी लुंड पर बढ़नीउरमिला चाची की अनतरवासनाchoudashi haus waif .com kahaniचूचे कि चूदाईLadkiyon ko shadi main dikhao xx image underwearhindibfseksiबेटी की सेक्सी कहानीporn video सास देख लेगीनैंसी की चूत मारीविधवा भाभी की बुर फाड़ चुदाईचाची ने रात को लौंडा चूसा सेक्स स्टोरीजमौसी थोड़ा ऊपर बैठी थी जिससे उसकी चूत से निकली पेशाब की धार दिखाई दे रही थीहिंदी सेक्सी कहानियाँ खुलम खुलाBhanjidi ko land ka maja diya hindi sex story. Comमॉ के कहने पर दीदी कोछिनाल पैदा माँ बेटा चुदाईकरवा चौथ पे usha chachi chudai ki khaniपहले बहन को फिर माँ की प्यास बुझाईwww.shadi mai ludhiana bali punjabn aunty ki chudai khani.inनीग्रो से चूत चुदायी की कहानियाँदोनो ने बड़ी बेरहमी से पेलाMaa aur beti ki Luka chuppi chudai xxx video hdmaa ne dilwaya papa ka lund porn khaniचुतsexichutmuslimhindisexstoriessiteमेरी चुत लंड मांगरही है